महाराष्ट्र: गढ़चिरौली में नक्सलियों की कायराना हरकत; वनकर्मियों से की मारपीट, दफ्तर में लगाई आग

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली (Gadchiroli) में नक्सलियों (Naxalites) ने एक बार फिर कायराना हरकत की है। 9 जून की देर रात नक्सली (Naxali) आए और वन विभाग के दफ्तर को घेर लिया और वन गार्डों से मारपीट की।

Naxalites

नक्सलियों ने वन विभाग के ऑफिस में आग लगा दी।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली (Gadchiroli) में नक्सलियों (Naxalites) ने एक बार फिर कायराना हरकत की है। 9 जून की देर रात नक्सली (Naxali) आए और वन विभाग के दफ्तर को घेर लिया और वन गार्डों से मारपीट की। यह घटना एटापल्ली तालुका के भामरागढ़ की। जानकारी के मुताबिक, घटना भामरागढ़ वन प्रभाग के तहत गट्टा रेंज कार्यालय में हुई। उस वक्त वहां दो फॉरेस्ट गार्ड मौजूद थे, जिन पर नक्सलियों ने हमला किया।

बताया जा रहा है कि हमला करने वाले सशस्त्र नक्सली 50 से अधिक थे। नक्सलियों ने दस्तावेजों और अन्य सामग्रियों में आग लगा दी। नक्सलियों (Naxalites) ने वनकर्मियों के मोबाइल भी लूट लिए। गढ़चिरौली पुलिस ने नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ आगजनी, मारपीट, और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में केस दर्ज किया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने किया ICC के विशेष कार्यक्रम को संबोधित, कहा- ‘मुसीबत की दवाई मजबूती है’

क्षेत्र में गश्त तेज कर दी गई है। साथ ही गट्टा रेंज और आसपास के क्षेत्रों में अतिरिक्त बल की तैनाती की गई है। गढ़चिरौली के पुलिस अधीक्षक (एसपी) दफ्तर के एक अधिकारी ने 10 जून को बताया कि हमला 9 जून देर रात हुआ। कुछ चरमपंथी भामरागड वन विभाग के तहत आने वाले गत्ता कार्यालय में घुस गए और दो वन गार्डों पर हमला किया।

अधिकारी ने बताया कि नक्सलियों (Naxalites) ने दफ्तर में रखे फर्नीचर, दस्तावेज और अन्य सामान को आग लगा दी। वन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शुरुआती जांच के मुताबिक, घटना गत्ता में रेंज वन कार्यालय के क्वार्टर में हुई। उन्होंने बताया, “वन गार्ड सुरक्षा कारणों से आमतौर पर वहां स्थायी रूप से नहीं रहते। गश्त ड्यूटी पर तैनात कर्मी वहां बीते दो दिन से रह रहे थे।” उन्होंने बताया कि नक्सलियों ने दफ्तर के कुछ सामान को जला दिया और कर्मियों को पीटा।

COVID-19: भारत में कोरोना से मौत के आंकड़ों ने तोड़ा रिकॉर्ड, संक्रमितों की संख्या पहुंची 2 लाख 86 हजार के पार

बता दें कि गढ़चिरौली पुलिस (Police) ने नक्सलियों की फंडिंग रोकने के लिए हाल में कई सख्त कदम उठाए हैं। अभी एक हफ्ते पहले ही तेलंगाना से महाराष्ट्र आ रहे दो वाहनों से 2.20 करोड़ रुपए की नकदी जब्त की गई थी। इसी के साथ गढ़चिरौली पुलिस ने बड़े नक्सली फंडिंग मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था।

कथित तौर पर जब्त नकदी महाराष्ट्र के अहेरी में सुरक्षाबलों और सरकारी प्रतिष्ठानों पर हमले को अंजाम देने के लिए लाई जा रही थी। पुलिस ने यह कार्रवाई एक खुफिया इनपुट के आधार पर की थी। इनपुट में कहा गया था कि नकदी को दो एसयूवी में ले जाया जाएगा और ये वाहन गोदावरी और प्राणहिता नदी पर बने पुलों से गुजरेंगे। आशंका है कि सुरक्षाबसों की कड़ी कार्रवाई से बौखलाए नक्सलियों (Naxalites) ने इस घटना को अंजाम दिया है।

यह भी पढ़ें