जम्मू कश्मीर: घाटी में 5 अगस्त से पहले बड़े आतंकी हमले की साजिश, पाकिस्तानी आतंकी कर सकते हैं कार बम का इस्तेमाल

5 अगस्त को जम्मू–कश्मीर में अनुच्छेद 370 व 35ए को खत्म किए जाने का एक वर्ष होने को है। इस बीच पाकिस्तानी आतंकवादी (Militants) किसी बड़े हमले की साजिश की तैयारी में है। यह हमला राजनीतिक कार्यकर्ताओं से लेकर सुरक्षाबलों तथा बड़े राजनेताओं पर हो सकते हैं।

militants

An encounter broke out between militants and security forces in the Sopore area.

जम्मू कश्मीर में हाल के दिनों में जिस प्रकार हमलों में तेजी आई और विशेषकर राजनीतिक हत्याएं हुई हैं‚ उससे सरकार के रणनीतिकारों की बेचैनी बढ़ गई है। सूत्रों का कहना है कि केंद्र सरकार आने वाले दिनों में कभी भी जम्मू–कश्मीर के संदर्भ में बड़ा राजनीतिक कदम उठा सकती है। सूत्रों का यह भी कहना है कि आगामी 5 अगस्त को जम्मू–कश्मीर में अनुच्छेद 370 व 35ए को खत्म किए जाने का एक वर्ष होने को है। इस बीच पाकिस्तानी आतंकवादी (Militants) किसी बड़े हमले की साजिश की तैयारी में है। यह हमला राजनीतिक कार्यकर्ताओं से लेकर सुरक्षाबलों तथा बड़े राजनेताओं पर हो सकते हैं।

कश्मीर के बारामूला में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकवादियों को किया ढेर, ऐसे चला पूरा ऑपरेशन

घाटी में मौजूदा वक्त में जैश–ए–मोहम्मद तथा लश्कर–ए–तय्यबा के कई गुट सक्रिय हैं। उनमें कुछ ऐसे दुर्दांत आतंकी (Militants) हैं‚ जो कार बम बनाने में कुख्यात हैं। यह पाकिस्तानी मूल हैं। इनके नाम लश्कर–ए–तय्यबा के रहमान तथा उस्मान के अलावा जैश–ए–मोहम्मद के आतंकी वालिद भाई और लंबू भाई हैं। सुरक्षा एजेंसियां इनकी सरगर्मी से तलाश में लगी हैं। चारों दुर्दांत आतंकी आईईडी बम बनाने में  एक्सपर्ट बताए गए हैं।

पिछली 28 मई को सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा–राजपुरा में करीब 40 से 50 किलोग्राम विस्फोटक से भरी कार जब्त की थी। बाद में जब इसे नष्ट किया गया तो वह कार जमीन से 50 फीट ऊपर उछली थी। तब कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने कहा था कि इस कार का चालक पाकिस्तान मूल का दुर्दांत जैश आतंकी अब्दुल रहमान उर्फ फौजी भाई था‚ जो भाग निकला। उसे बाद में 3 जून को तीन आतंकियों (Militants) के साथ मुठभेड़ में मार दिया गया‚ वहीं उसके दो साथी वालिद भाई और लंबू भाई कहीं छिप गए हैं। इससे पहले यह आतंकी बड़े हमलों को अंजाम दे सकते हैं। खुफिया एजेंसी के मुताबिक ये सरहद पार बैठे पाकिस्तानी हैंड़लरों के संपर्क में हैं। आतंकियों (Militants) के पास अमेरिका व चीन निर्मित घातक हथियार भी हैं। पिछले दिनों बारामूला से सफेद रंग की एक ऑल्टो कार चोरी हो गई है‚ जिसे कार बम के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

घाटी में मौजूद तमाम सुरक्षाबल बेहद सतर्क हैं। इस बीच सूत्रों का कहना है कि केंद्र सरकार घाटी में घट रही सभी घटनाओं की लगातार समीक्षा करने में लगी है और आने वाले दिनों में वह जम्मू–कश्मीर के लिए एक बड़ा राजनीतिक कदम उठाने का ऐलान कर सकती है‚ जो कि उप-राज्यपाल की देखरेख में सलाहकार परिषद के रूप में गठित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें