Terrorism

गिरफ्तार आतंकी सहयोगियों की पहचान आदिल अली निवासी आचन और आसिफ गुलजार निवासी हाजीदरपोरा के रूप में हुई है। पुलिस ने इनके कब्जे से कई आपत्तिजनक चीजें बरामद की है।  

सोमवार को अनंतनाग के अरवानी इलाके में आतंकियों ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के बंकर को निशाना बनाया। आतंकियों ने जो हैंड-ग्रेनेड फेंका वह एक खाली जगह पर जाकर गिरा, जिससे किसी भी तरह का नुकसान नहीं हुआ।

दक्षिण कश्मीर में शनिवार को सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच यह तीसरी एनकाउंटर थी। इससे पहले शनिवार को शोपियां और पुलवामा में हुई एनकाउंटर में दो-दो दहशतगर्द (Terrorist) मारे गए थे।

एक दिन पहले ही राज्य में एक घंटे के अंतराल पर दो आतंकी हमले हुये थे। जिसमें जम्मू कश्मीर पुलिस के एक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर के अलावा एक आम नागरिक की मौत हो गई थी।

जम्मू कश्मीर में हुये इस आंतकी हमले पर अफसोस जताते हुये ले. जनरल मनोज सिन्हा ने बताया कि इन हमलों में शामिल आतंकियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की जायेगी।

रेडवानी इलाके में सुरक्षाबलों का सर्च ऑपरेशन चल रहा था, इसी दौरान आतंकियों (Terrorists) ने जवानों पर फायरिंग कर दी। जवाबी कार्रवाई के बाद ये छानबीन मुठभेड़ में बदल गई और सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया।

इस हमले से आहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकी हमले का ब्योरा मांगा और शहीद सुरक्षाकर्मियों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना जाहिर की।

गिरफ्तार आतंकी की पहचान तौफीक काबू के तौर पर हुई है जो सोपोर के आरामपोरा का रहने वाला है। वहीं उसके सहयोगी की पहचान तकियाबल गांव के निवासी बिलाल अहमद उर्फ कालू के तौर पर हुई है।

राजोरीकदल में तैनात जवानों पर किये गये आतंकी हमले में एक ट्रैफिक पुलिस का जवान घायल हो गया। जिसे फौरन अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है।

कस्बा यार इलाके में रुक-रुक कर सुरक्षाबलों और आतंकियों (Terrorists) के बीच फायरिंग होती रही। जवानों ने आतंकियों के ठिकाने को चारों तरफ से घेर लिया है और बार-बार उन्हें सरेंडर करने की अपील भी की गई।

इस मुठभेड़ में मारे गये तीनों आतंकी (Terrorists) लश्कर-ए-तैयबा का मुखौटा संगठन 'द रेजिस्टेंस फ्रंट’ (टीआरएफ) के सदस्य थे, जो पिछले कई महीनों से घाटी में हो रही टारगेट किलिंग में शामिल थे।

पूछताछ के दौरान मिली जानकारी के आधार पर उन्होंने जिले के रैश्याबारी इलाके से दो और संदिग्धों को गिरफ्तार किया जिनकी पहचान 28 वर्षीय बैल्या जामतिया और 45 वर्षीय रवि कुमार त्रिपुरा के रूप में की गई है। 

पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने बताया कि मारे गए दो आतंकियों (Terrorists) में से एक प्रतिबंधित संगठन 'द रेजिस्टेंस फ्रंट '(टीआरएफ) का कमांडर था।

आईएसआई (ISI) के बैठक के बाद इस्लामाबाद के एक मरकज में राउफ असगर ने जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-E-Mohammed) के बड़े आतंकी मुफ्ती अजघर खान कश्मीरी और क्वारी जरार के साथ बैठक कर आतंकी हमले की रूपरेखा तैयार की है।

सुरक्षाबलों ने थोउबल इलाके से पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के एक आतंकी और इंफाल के पोरोमपत थाना क्षेत्र से कंगलीपाक कम्युनिस्ट पार्टी (केसीपी) के एक आतंकी को धर दबोचा। 

सीमा पार चल रहे आतंकी लॉन्च पैड पर अभी भी 200 से 250 आतंकियों (Terrorists) की मौजूदगी की सूचना है, जो घुसपैठ के लिए तैयार हैं।

पूंछ और राजौरी जिले के जंगलों में आतंकियों के खिलाफ चल रहा ये सर्च ऑपरेशन अभी तक का सबसे लंबा सैन्य अभियान साबित हो रहा है।

यह भी पढ़ें