कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने जमात-उल-मुजाहिद्दीन के वांटेड आतंकी को दबोचा

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से सुरक्षाबलों ने एक वांटेड आतंकी को गिरफ्कार किया है। कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने 28 मई की रात को ‘जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश’ (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh) के वांछित आतंकी अब्दुल करीम को गिरफ्तार कर लिया।

Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh

'जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश' का वांछित आतंकी अब्दुल करीम। (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से सुरक्षाबलों ने एक वांटेड आतंकी को गिरफ्तार किया है। कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने 28 मई की रात को ‘जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश’ (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh) के वांछित आतंकी अब्दुल करीम को गिरफ्तार कर लिया। उसे मुर्शिदाबाद के सूती पुलिस थाने से गिरफ्तार किया गया। यह जेएमबी के शीर्ष सदस्यों में से एक है। कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के बाद उसे अदालत में पेश किया जाएगा।

बता दें कि 19 जनवरी, 2018 को बिहार के बोध गया में हुए बम धमाकों के पीछे बांग्‍लादेश के आतंकी संगठन ‘जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश’ (जेएमबी) का हाथ था। पुलिस, एनआईए और खुफिया विभाग को लंबे समय से अब्दुल करीम की तलाश थी। अब्दुल करीम का पकड़ा जाना एक बड़ी कामयाबी माना जा रहा है।

बड़े IED हमले की तैयारी कर रहे हैं नक्सली, सरेंडर के बाद प्लाटून कमांडर ने किए सनसनीखेज खुलासे

गिरफ्तार अब्दुल करीम से पूछताछ के दौरान इस बात की जानकारी ली जाएगी कि आतंकी संगठन का नेटवर्क कहां-कहां काम कर रहा है। इसके साथ ही जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh) से जुड़े लोगों की जानकारी भी इकठ्ठा की जाएगी।

एसटीएफ की इकाई द्वारा 2018 में मुर्शिदाबाद स्थित आरोपी के घर से बड़ी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ जब्त किया गया था। हालांकि, तब करीम का पता नहीं लगाया जा सका था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने करीम का नाम बोध गया विस्फोट मामले के आरोपपत्र में शामिल नहीं किया था लेकिन काफी समय से वह जांच के दायरे में था।

छत्तीसगढ़: क्वारेंटाइन सेंटर के निरीक्षण में निकली पुलिस टीम पर नक्सलियों ने किया हमला

बता दें कि पिछले साल केंद्र सरकार ने ‘जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश’ को प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन घोषित कर दिया था। बांग्लादेश की राजधानी ढाका में साल 2006 में हुए आतंकी हमले का जिम्मेदार भी ‘जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश’ को माना जाता है। इस हमले में 17 विदेशी नागरिकों समेत 22 लोगों की मौत हो गई थी।

‘जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश’ (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh) भारत में आतंकी गतिविधियों के लिए युवाओं में कट्टरपंथी भावनाएं भड़काने, उन्हें उकसाने और उनकी भर्ती करने का काम करने में लिप्त पाया गया था। इसके अलावा यह भी जानकारी सामने आई थी कि पश्चिम बंगाल के वर्धमान में हुए बम धमाकों के पीछे भी इसी आतंकी संगठन का हाथ था।

बांग्लादेशी आतंकी संगठन ‘जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश’ (Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh) पश्चिम बंगाल में लंबे समय से पैर पसारने की कोशिश में लगा हुआ हैं। हालांकि, सुरक्षाबलों और खुफिया एजेंसियों की सतर्कता के कारण उनके मंसूबों पर हर बार पानी फिर जा रहा है।

यह भी पढ़ें