Terrorist

एनआईए ने जम्मू-कश्मीर और दिल्ली सहित अन्य कई बड़े शहरों में आतंकी हमले की साजिश रचने वाले आतंकी संगठनों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इसी के तहत घाटी में 13 अक्तूबर को भी 16 स्थानों पर एक साथ छापेमारी की गई थी।

जम्मू कश्मीर के कुलगाम जिले में रविवार को आतंकियों ने दो गैर–कश्मीरी मजदूरों की गोली मारकर हत्या कर दी थी और एक अन्य को घायल कर दिया था। 24 घंटे से भी कम समय में गैर–कश्मीरी मजदूरों पर ये तीसरा हमला था।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के रहने वाले मोहम्मद अशरफ उर्फ अली अहमद नूरी बांग्लादेश के रास्ते भारत आया था और वह फर्जी डॉक्यूमेंट्स के जरिए भारतीय पहचान पत्र हासिल कर करीब 10 साल से भारत में रह रहा था।

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के अनुसार, श्रीनगर और बांदीपोरा में आतंकियों (Militants) हमले में 3 नागरिकों की हत्या की कड़ी निंदा करता हूं।

पाकिस्तानी ड्रोन से गिराए गए पैकेट में एक एके असॉल्ट राइफल, तीन मैगजीन, 30 गोलियां और एक टेलीस्कोप बरामद हुआ है।

शुक्रवार सुबह शोपियां के रखमा इलाके में एनकाउंटर शुरू हो गई जिसमें पुलिस और सुरक्षाबलों ने डटकर मोर्चे को संभाला और एक आतंकी (Terrorist) को ढेर कर दिया।

घाटी में आतंकियों के खिलाफ जारी कार्रवाई के बावजूद आतंकी गतिविधियों पर पूरी तरह से लगाम नहीं लग सकी है। इस आतंकी वारदात से इलाके में काफी गुस्सा है।

प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने पाकिस्तानी मीडिया और पत्रकारों को चेतावनी देते हुए कहा है कि उन्हें 'आतंकवादी संगठन' ना कहें।

ये सेवायें कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी की मौत के कुछ घंटे बाद बुधवार देर रात से बंद कर दी गई थीं।

एलओसी (LoC) के अलावा यदि अंतर्राष्ट्रीय सीमा की बात करें‚ तो जम्मू क्षेत्र में भी सीमा पार आतंकवादियों (Militants) की गतिविधियों में पिछले महीने अचानक बढ़ोतरी देखी गई है

आतंकी एजाज अहंगर (Terrorist Aijaz Ahmad Ahangar) कई सालों तक घाटी में सक्रिय था और इस दौरान कई बार गिरफ्तार भी हुआ। लेकिन 1996 में कश्मीर में जेल से आखिरी बार छूटने के बाद से ही वह भूमिगत हो गया।

Jammu and Kashmir: जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है, फिर भी आतंकी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं।

Terrorist Attack: घाटी में आतंकियों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई की जा रही है, फिर भी आतंकी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं।

पुलिस ने इस आतंकी ठिकाने से मैगजीन के साथ एक 9 एमएम की पिस्टल और 20 राउंड गोलियां, एक ग्रेनेड, एक एके 47 मैगजीन और दो वायरलेस सेट जब्त किया है।

अफगानिस्तान पर कब्जा करने का बाद तालिबान (Taliban) ने अपनी नापाक हरकतों को अंजाम देना शुरू कर दिया है।

Jammu and Kashmir: सुरक्षा एजेंसियों का मानना है कि राज्य में जो भी ड्रोन हमले हो रहे हैं, उसके पीछे आतंकी संगठन जैश के कमांडर आशिक अहमद नैगरू का हाथ है।

सोनू खान (Terrorist Izhar Khan) की गिरफ्तारी के बाद से परिवार के लोग काफी मुखर हैं। इजहार के भाई नूर मोहम्मद ने मीडिया में कहा था कि वह और इजहार जम्मू में फल का कारोबार करते थे। उनका भाई निर्दोष है।

यह भी पढ़ें