भारत ने किया पिनाका मार्क-2 गाइडेड मिसाइल सिस्टम का सफल परीक्षण

ओडिशा के बालासोर में स्वदेशी तकनीक से निर्मित पिनाका मार्क-2 गाइडेड मिसाइल (Missile) सिस्टम का सफल परीक्षण किया गया।

Missile

ओडिशा के बालासोर में स्वदेशी तकनीक से निर्मित पिनाका मार्क-2 गाइडेड मिसाइल (Missile) सिस्टम का सफल परीक्षण किया गया।

ओडिशा के बालासोर में स्वदेशी तकनीक से निर्मित पिनाका मार्क-2 गाइडेड मिसाइल (Missile) सिस्टम का सफल परीक्षण किया गया। इस सिस्टम ने 44 सेकंड में 12 मिसाइल लॉन्च किए। यानी करीब हर 4 सेकंड में एक मिसाइल। इसी मिसाइल के पुराने वर्जन ने करगिल युद्ध में पाकिस्तान के पसीने छुड़ा दिए थे।

Missile
स्वदेशी तकनीक से निर्मित पिनाका मार्क-2 गाइडेड मिसाइल (Missile) सिस्टम का सफल परीक्षण।

अगर इस मिसाइल (Missile) को सीमा से लॉन्च किया जाए तो इसकी जद में पाकिस्तान के लाहौर समेत कई महत्वपूर्ण शहर आ जाएंगे। क्योंकि इसकी रेंज है 75 किलोमीटर। इस पिनाका मिसाइल सिस्टम में नई अपग्रेडेड गाइडेंस किट लगी है। यह अत्याधुनिक नेविगेशन और कंट्रोल सिस्टम से लैस है। इसका नेविगेशन इंडियन रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (आईआरएनएसएस) के जरिए होता है।

जिसे ‘नाविक’ भी कहते हैं। इस साल मार्च में राजस्थान के पोखरण में पिनाका मार्क-2 मिसाइल (Missile) सिस्टम के तीन सफल परीक्षण हो चुके हैं। अब बालासोर में हुए सफल परीक्षण से सेना की आर्टिलरी क्षमता बढ़ाने की दिशा में अहम कदम माना जा रहा है। इस मिसाइल सिस्टम की शुरुआत 1986 में हुई थी। पिनाका को लॉन्च करने से लेकर लक्ष्य भेदने तक राडार, इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल टारगेटिंग सिस्टम और टेलीमेट्री सिस्टम आदि की निगरानी की गई।

इस मिसाइल (Missile) के सारे सिस्टम्स ने तय मानकों को सफलतापूर्वक पार किया और उच्चतम सटीकता से टारगेट को ध्वस्त कर दिया। बता दें कि 1999 के करगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने पिनाका मार्क-1 संस्करण का इस्तेमाल किया था, जिसने पहाड़ की चौकियों पर तैनात पाकिस्तानी चौकियों को सटीकता से निशाना बनाया था और दुश्मनों के छक्के छुड़ाए थे।

पढ़ें: दंतेवाड़ा में एक इनामी सहित तीन नक्सली गिरफ्तार

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App