ये है दिल्ली दंगों का मुख्य हथियार-कई लोगों से जुड़ें हैं इसके तार, गिरफ्त में आये देशद्रोही से कई राज उगलवाने को पुलिस तैयार

खालिद सैफी (Khalid Saifi) ‘यूनाइटेड अगेंस्ट हेट’ नाम से एक संगठन चलाता है। इस संगठन से जेएनयू‚ जामिया और डीयू के छात्र व पूर्व छात्र जुड़े हुए हैं। संगठन जगह–जगह प्रदर्शन करता रहता है।

Khalid Saifi

Khalid Saifi Arrested in Delhi Riots case

Delhi Riots 2020: इसी साल फरवरी में उत्तर–पूर्वी दिल्ली में हुई हिंसा के मामले में पुलिस ने ‘यूनाइटेड अगेंस्ट हेट’ के खालिद सैफी (Khalid Saifi) को गिरफ्तार किया है। पुलिस (Delhi Police) सूत्रों के मुताबिक हिंसा के मुख्य साजिशकर्ता ताहिर हुसैन के साथ मिलकर खालिद ने चांद बाग में हुई हिंसा की साजिश रची थी।

सुकमा में 7 नक्सलियों का सरेंडर, फायरिंग आगजनी जैसी कई वारदातों में रहे हैं शामिल

पुलिस का कहना है कि ताहिर और जेएनयू छात्र उमर खालिद (Umar Khalid) के बीच मीटिंग कराने वाला शख्स भी खालिद सैफी (Khalid Saifi) ही था। खालिद ने आठ जनवरी को शाहीन बाग में ताहिर और उमर की मीटिंग करवाई थी‚ जिसमें वह भी शामिल था। खालिद उमर को पहले से जानता था। चांद बाग में हुई हिंसा के आरोप में पुलिस ताहिर (Tahir Hussain) के खिलाफ चार्जशीट पहले ही अदालत में दाखिल कर चुकी है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक आठ जनवरी को हुई मीटिंग में उमर खालिद (Umar Khalid) ने कहा था कि अमेरिका के राष्ट्रपति के आने पर उस समय कुछ बड़ा करना होगा। इन सबके लिए आर्थिक मदद पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया कर देगा। इसके बाद लगातार कुछ न कुछ चलता रहा। दंगों की साजिश रची गई।

वहीं दिल्ली बीजेपी के वरिष्ट नेता कपिल मिश्रा ने अपने आधिकारिक ट्वीटर के माध्यम से ये आरोप लगाया है कि उमर खालिद पर गोली चलने की छूठी खबर को मीडिया में हाईप करने के लिए खालिद सैफी (Khalid Saifi) ही झूठे गवाह के तौर पर सभी जगह हाजिर हुआ था।

गौरतलब हो कि खालिद सैफी (Khalid Saifi) ‘यूनाइटेड अगेंस्ट हेट’ नाम से एक संगठन चलाता है। इस संगठन से जेएनयू‚ जामिया और डीयू के छात्र व पूर्व छात्र जुड़े हुए हैं। संगठन जगह–जगह प्रदर्शन करता रहता है। पुलिस ने खालिद को खुरैजी मामले में पहले गिरफ्तार किया था। उसके खिलाफ तीन मामले दर्ज हैं। जिसमें उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जगतपुरी दंगों में भी इसकी गिरफ्तार हो चुकी है।

 

यह भी पढ़ें