Delhi Riots

कोर्ट ने कहा कि आप के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain), जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद (Umar Khalid) और अन्य ने पिछले साल उत्तर–पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों (Delhi Riots) के दौरान षड्यंत्र रचे थे।

उमर खालिद (Umar Khalid) ने लोगों से अपील की थी कि वे ट्रंप की यात्रा के दौरान सड़कों पर उतरें और रास्ते जाम करें, जिससे कि भारत में अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचारों का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा सके।

खालिद सैफी (Khalid Saifi) ‘यूनाइटेड अगेंस्ट हेट' नाम से एक संगठन चलाता है। इस संगठन से जेएनयू‚ जामिया और डीयू के छात्र व पूर्व छात्र जुड़े हुए हैं। संगठन जगह–जगह प्रदर्शन करता रहता है।

आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा (Ankit Sharma) की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनके शरीर पर चोटों के कुल 51 निशान मिले। इनमें 12 निशान चाकू गोदने के थे।

BSF प्रवक्ता ने बताया कि बल ने जवान के घर का पुनर्निर्माण करने का भी संकल्प लिया है और विवाह के उपहार के तौर पर यह राशि दी है

पुलिस सूत्रों की माने तो हिंसा के दौरान सरकारी संपत्ति का नुकसान की भरपाई, पुलिस ने दंगाइयों से वसूलने का निर्णय लिया है जबकि जुर्माना राशि नहीं देने पर संपत्ति भी कुर्क की जा सकती है।

साइबर सेल ने सोशल मीडिया के जरिए भड़काऊ पोस्ट को लेकर कुल 16 मुकदमे दर्ज किए हैं जबकि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनकी पहचान उजागर की जा रही है।

पुलिस (Delhi Police) का कहना है कि ख्याला इलाके में दो गुटों में आपस में झगड़ा हुआ था‚ लेकिन वहां पर भी अब हालात पूरी तरह से सामान्य हैं। पुलिस ने बताया कि जिन इलाकोंमें मेट्रो स्टेशनों के गेट बंद किए गए थे