भारत में आतंकी हमले के लिए ड्रैगन-ISI की नई चाल, छात्रों-फेरीवालों की भेष में जैश-ए-मोहम्मद बिछा रहा स्लिपर सेल का जाल

सूत्रों का कहना है कि कश्मीर और देश के अन्य हिस्सों में मौजूद जैश के आतंकियों (Terrorists) का स्लीपर सेल सीरियल ब्लास्ट (Serial Blast) कर सकता है। जिस तरह दिल्ली‚ हैदराबाद और मुंबई में बम धमाके हुए थे‚ उसी तरीकों को जैश फिर अपना सकता है।

Terrorists

China-Pak plotting big terror attack in India

चीन (China) के उकसाने पर पाकिस्तान (Pakistan) की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) अपने आतंकी को कश्मीर में हमला करवाने की लगातार कोशिश कर रहा है। लेकिन भारतीय सुरक्षा एजेंसी द्वारा लगातार आतंकियों (Terrorists) को मारे जाने से जहां उसकी कमर तोड़ दी वहीं हमले की सारी कोशिशों को नाकाम कर दिया। लिहाजा बौखलाये आईएसआई ने ड्रैगन (China) की शह पर जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर इब्राहिम को कहा है कि साथी के साथ दिल्ली कूच करो और स्लीपर सेल का जाल बिछाओ और पुराने साथियों को सक्रिय कर हमला करो।

जम्मू कश्मीर: शोपियां में सुरक्षाबलों का बड़ा ऑपरेशन सफल, जवानों ने 5 आतंकियों को ’72 हूरों’ के पास भेजा

खुफिया सूत्रों के अनुसार पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद देश के दिल्ली सहित कुछ शहरों में आतंकी हमला (Terror Attack) करने के फिराक में है। ड्रैगन (China) के समर्थन और उसके उकसाने पर आईएसआई ने कश्मीर में लगातार पिट रहे आतंकियों (Terrorists) से बौखलाकर जैश को अपने आतंकियों (Terrorists) को दिल्ली की तरफ कूच करने का फरमान दिया है। इसकी कमान इब्राहिम नाम के आतंकी को कुछ दिन पहले सौंपी गई थी।

जैश-ए-मोहम्मद आतंकियों (Terrorists) के स्लीपर सेल द्वारा सीरियल ब्लास्ट की योजना

सूत्रों का कहना है कि कश्मीर और देश के अन्य हिस्सों में मौजूद जैश के आतंकियों (Terrorists) का स्लीपर सेल सीरियल ब्लास्ट (Serial Blast) कर सकता है। जिस तरह दिल्ली‚ हैदराबाद और मुंबई में बम धमाके हुए थे‚ उसी तरीकों को जैश फिर अपना सकता है।

सूत्रों के अनुसार कश्मीर‚ उत्तर प्रदेश‚ पंजाब‚ दिल्ली‚ मुंबई‚ गुजरात जैसे राज्यों के कुछ शहर जैश के स्लीपर सेल के निशाने पर हो सकते हैं। पाक खुफिया एजेंसी के कहने पर पुलवामा–2 की कोशिश के बाद इब्राहिम नामक जैश आतंकी अपने साथी मुद्दसीर फय्याज‚ शबीर‚ सगीर अहमद पोस्वाल‚ इसहाक भट्ट‚ अÌशद‚ जमाल कुरैशी‚ साहिब खान और शकिब सहित कुछ अन्य के साथ कश्मीर छोड़ कर दिल्ली और एनसीआर में आकर जैश के स्लीपर सेल बनाकर हमला करने में जुट गया है।

सूत्रों के अनुसार अब जैश मोबाइल एप के जरिए स्लिपर सेल को संगठन में भर्ती कर रहा है। ये छात्रों के रूप में‚ शाल व कपड़ा बेचने वाले या फिर फेरीवालों के वेश में हो सकते हैं। ये लोकल ओवर ग्राउंड वर्कर की मदद से या फर्जी तरीके से एक नहीं कई मोबाइल सिम ले सकते है और पोस्टपेड सिम को कश्मीर भी भेज सकते हैं, इसलिए सिम बेचने वाले दुकान पर भी नजर रखने के लिए स्थानीय सुरक्षा एजेंसियों को कहा है। खुफिया विभाग ने अपनी पैनी नजर इन पर रखी ही है‚ साथ ही साथ राज्यों के सुरक्षा एजेंसी को भी ऐसे लोगों पर नजर रखने को कहा है।