‘बड़ा राजन’ के मरने के बाद आया ‘छोटा राजन’, दाऊद से पहले दोस्ती फिर हो गई दुश्मनी

राजेंन्द्र सदाशिव निखलजे उर्फ छोटा राजन (Chhota Rajan) फिलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है और उसपर 15 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। साल 1995 में इंटरपोल ने छोटा राजन को वॉन्टेड की लिस्ट में डाल दिया था।

Chhota Rajan अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन

छोटा राजन (फाइल फोटो)

मुंबई के शंकर सिनेमा हॉल में कभी टिकट ब्लैक करने वाले राजेंन्द्र सदाशिव निखलजे (Rajendra Sadashiv Nikalje) का सबसे बड़ा दुश्मन आज शायद अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) ही होगा। राजेंन्द्र सदाशिव निखलजे उर्फ छोटा राजन (Chhota Rajan) फिलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है और उसपर 15 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। साल 1995 में इंटरपोल ने छोटा राजन को वॉन्टेड की लिस्ट में डाल दिया था।

सिनेमा हॉल के बाहर टिकट बेचता था छोटा राजन: कभी सिनेमा हॉल के बाहर टिकट बेचते हुए उसकी मुलाकात राजन महादेव नायर (Rajan Mahadev Nair) उर्फ बड़ा राजन (Bada Rajan) से हुई। बड़ा राजन से उसने काली कमाई के गुर सीखे और बड़ा राजन के लिए शराब की तस्करी करने लगा। इश्क के चक्कर में बड़ा राजन मारा गया और तब छोटा राजन (Chhota Rajan) इस गैंग का सर्वेसर्वा बन बैठा। गैंग चलाने के दौरान ही छोटा राजन की मुलाकात दाऊद इब्राहिम से हुई।

‘शौर्य दिवस’: CRPF के जवानों की एक ऐसी शौर्य गाथा जो तारीख बन गई

छोटा राजन ने बनाया अपना गैंग: दाऊद की सरपरस्ती में छोटा राजन (Chhota Rajan) ने गैंग को और भी खूंखार और बढ़ाने का काम किया। लेकिन दाऊद से उसकी नजदीकि गैंग के ही कुछ पुराने सदस्यों को अखड़ने लगी और उन्होंने छोटा राजन के खिलाफ दाऊद को उकसाना शुरू कर दिया। ऐसा माना जाता है कि राजन और दाऊद के अलग होने की सबसे बड़ी वजह 1993 के बम धमाके हैं। ये धमाके जहां दाऊद के इशारे पर हुए थे वहीं, राजन इनके खिलाफ बताया जाता था। बम ब्लास्ट की घटनाओं के बाद 1996 में राजन ने खुद को दाऊद से अलग कर लिया था। इसके बाद छोटा राजन ने अपना गैंग बनाया।

बाली से किया गया गिरफ्तार: 1988 में छोटा राजन देश छोड़कर चला गया। तब से ही दाऊद और छोटा राजन के बीच छत्तीस का आंकड़ा बना हुआ है। 1994 से दाऊद और राजन के गैंग के बीच मुठभेड़ की खबरें आती रहती हैं। 2011 में पत्रकार ज्योतिर्मय डे की हत्या के मामले में छोटा राजन (Chhota Rajan) का ही नाम सामने आया था। किसी समय मोस्ट वांटेड अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के सबसे करीबी माने जाने वाले छोटा राजन ने दो दशक से भी ज्यादा वक्त तक पुलिस की आंखों में धूल झोंकी थी। छोटा राजन (Chhota Rajan) को 25 अक्टूबर, 2015 को इंडोनेशिया के बाली शहर से गिरफ्तार किया गया था और तब से वो जेल में है।

अबू सलेम को दाऊद ने रंगदारी वसूलने का काम दिया था, फिल्म अभिनेत्री से रहे अफेयर के चर्चे

यह भी पढ़ें