नक्सलियों का फरमान- संगठन ज्वॉइन करो वरना टैक्स दो, युवकों में हड़कंप

देश में कोरोना (Coronavirus) का खतरा अभी बरकरार है। लेकिन इस बीच नक्सलियों (Naxals) का उत्पात भी कम नहीं हो रहा है। अब बिहार के जमुई जिले के नक्सल प्रभावित गांव में नक्सलियों ने फरमान जारी कर कहा है कि ‘संगठन ज्वॉइन करो वरना टैक्स दो।’

Naxals

सांकेतिक तस्वीर।

देश में कोरोना (Coronavirus) का खतरा अभी बरकरार है। लेकिन इस बीच नक्सलियों (Naxals) का उत्पात भी कम नहीं हो रहा है। अब बिहार के जमुई जिले के नक्सल प्रभावित गांव में नक्सलियों ने फरमान जारी कर कहा है कि ‘संगठन ज्वॉइन करो वरना टैक्स दो।’

नक्सलियों  (Naxals) के इस तुगलती फरमान से युवकों में हड़कंप मच गया है। खबर है कि जिले के मिरचा पाठकचक गांव में 5 युवा ‘लाल आतंक’ के खौफ की वजह से गांव छोड़कर भाग गए हैं। जानकारी के मुताबिक, नक्सली नेता अरविंद यादव के नेतृत्व में संगठन के एक दस्ते ने रविवार देर शाम मिरचा-पाठकचक जंगल में बैठक की। इस दौरान 5 पांच युवकों को बैठक में आने का संदेश कुछ इसी अंदाज में भिजवाया। इसके बाद पांचों युवक दहशत में आ गए और गांव छोड़कर भाग गए।

छत्तीसगढ़: सुकमा में सुरक्षाबलों ने नक्सली को गिरफ्तार किया, कारतूस बरामद

इधर बैठक में युवकों के नहीं आने से नाराज नक्सली दस्ता देर रात गांव पहुंचा सभी युवकों के घर जाकर नक्सली नेता (Naxal Leader) का मोबाइल नंबर देते हुए उससे बात करने को कहा। परिजन को बैठक के फैसले की भी जानकारी दी। बताया जाता है कि संगठन ने जिन युवकों को संगठन में जुड़ने या टैक्स देने की बात कही, वे सभी जंगली इलाके में शराब के अवैध कारोबार से जुड़े हैं।

नक्सलियों से डर रहे पीड़ित गांव वालों ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा है कि नक्सलियों ने 7 जून की देर शाम बैठक की थी। संगठन में शामिल नहीं होने पर 10 से ज्यादा युवकों से दो-दो लाख रुपए मांगे गए थे।

नक्सलियों की सप्लाई चेन रोकने की तैयारी, केंद्र के इस फैसले से बदलेगी इन इलाकों की किस्मत

बहरहाल अब इस मामले के सामने आने के बाद इलाके में प्रशासन हरकत में आ गया है। भारी दल-बल के साथ पुलिस ने नक्सलियों (Naxalites) की तलाश में गांव में तलाशी अभियान भी चलाया। हालांकि इस अभियान के दौरान पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लग सकी।

लेकिन नक्सलियों (Naxals) की इस कारस्तानी के बाद अब यहां पुलिस पहले से ज्यादा चौकन्नी हो गई है। पुलिस का कहना है कि नक्सली और उनके सहयोगियों पर यहां कड़ी निगरानी रखी जा रही है ताकि लोगों के मन से नक्सलियों का खौफ खत्म किया जा सके।

यह भी पढ़ें