जम्मू कश्मीर से आतंकवाद का सफाया करने की मुहिम, केंद्र सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

जम्मू कश्मीर दशकों से आतंकवाद का दंश झेल रहा है। पाकिस्तान स्पॉन्सर आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए केंद्र सरकार प्रतिबद्ध है। इस दिशा में ठोस कदम भी उठाए जा रहे हैं। इसी कड़ी में सरकार राष्ट्रीय राइफल्स (RR) के मुख्यालय को दिल्ली से ऊधमपुर शिफ्ट करने की तैयारी में है।

terrorism, Jammu and Kashmir, politics, Terrorists shot, elimination of terrorism, political worker, jammu and kashmir politics, jammu politics, Jammu Kashmir Terrorists shot, Jammu political, Kulgam , jammu and kashmir politics, indian army, RR, sirf sach, sirfsach.in

राष्ट्रीय राइफल्स (RR) के मुख्यालय को दिल्ली से ऊधमपुर शिफ्ट करने की तैयारी।

जम्मू कश्मीर दशकों से आतंकवाद का दंश झेल रहा है। पाकिस्तान स्पॉन्सर आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए केंद्र सरकार प्रतिबद्ध है। इस दिशा में ठोस कदम भी उठाए जा रहे हैं। इसी कड़ी में सरकार राष्ट्रीय राइफल्स (RR) के मुख्यालय को दिल्ली से ऊधमपुर शिफ्ट करने की तैयारी में है। उल्लेखनीय है कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद से लड़ने के साथ घुसपैठ को नाकाम बना रही सेना की उत्तरी कमान का मुख्यालय ऊधमपुर में है। ऊधमपुर से ही आर्मी कमांडर आतंकवाद विरोधी अभियानों को संचालित करते हैं। ऐसे में अब राष्ट्रीय राइफल्स का मुख्यालय भी ऊधमपुर से काम करेगा।

इस समय जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स की रोमियो फोर्स राजौरी-पुंछ, डेल्टा फोर्स डोडा, किलो फोर्स कुपवाड़ा व विक्टर फोर्स कश्मीर में आतंकवाद के खात्मे में जुटी हुई है। इन्हें दिल्ली से राष्ट्रीय राइफल्स के डायरेक्टर जनरल संचालित करते हैं। जानकारी के मुताबिक, केंद्र सरकार ने दिल्ली में सेना मुख्यालय में तैनात 229 अधिकारियों को विभिन्न जिम्मेदारी के साथ जम्मू-कश्मीर में भेजने की तैयारी की है। उन्हें नियंत्रण रेखा और आतंकवाद ग्रस्त इलाकों में तैनात किया जाएगा। जानकारी के अनुसार, जम्मू-कश्मीर में सेना और सुरक्षाबलों को आतंकवाद का सफाया करने के लिए एक साल का लक्ष्य दिया गया है। राज्य में आतंकवाद और सीमा पर हो रहे घुसपैठ को पूरी तरह खत्म के लिए सेना के अधिकारियों की संख्या में 20 फीसद की बढ़ोत्तरी भी की जा रही है।

इसके साथ ही सेना के मिलिट्री इंटेलीजेंस, ऑपरेशन और इन्फॉर्मेशन वॉरफेयर के लिए भी डिप्टी चीफ का एक पद सृजित किया जा रहा है। केंद्र सरकार ने देश-विदेश से आतंकियों तक पहुंचने वाले फंड पर भी अंकुश लगाया है। जिससे कश्मीर में सक्रिय आतंकी संगठन कमजोर पड़ रहे हैं। साथ ही देश विरोधी संगठनों पर प्रतिबंध लगाने के लिए अलगाववादियों के खिलाफ भी कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, इस समय जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई काफी तेज है। आतंकियों को ढूंढ-ढूंढ कर मारा जा रहा है।

पढ़ें: नक्सलियों की पुनर्वास नीति में संशोधन, सरेंडर करने वालों को मिलेगा रोजगार

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App