…जब पाक को लगा वह श्रीनगर से कश्मीर के राजा को भगाकर कर लेगा कब्जा

India Pakistan War of 1948: पाकिस्तान का ऐसा सोचना ही उसे भारी पड़ गया था। पाकिस्तान ने तब कश्मीर में घुसपैठ कर कबायलियों के जरिए आतंक मचा दिया था।

India Pakistan War 1948

File Photo

India Pakistan War 1948: पाकिस्तान (Pakistan) का ऐसा सोचना ही उसे भारी पड़ गया था। पाकिस्तान ने तब कश्मीर (Kashmir)  में घुसपैठ कर कबायलियों के जरिए आतंक मचा दिया था।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1948 में पहला युद्ध (India Pakistan War 1948) लड़ा गया था। आजादी के बाद दोनों देश आमने-सामने थे। वजह थी कश्मीर (Kashmir) पर पाकिस्तान (Pakistan) के कब्जे की चाह रखना। भारत के लिए यह कभी स्वीकार्य नहीं था। कश्मीर तब न पाकिस्तान का हिस्सा था और न ही भारत का।

भारत से अलग होकर पाकिस्तान की मंशा सिर्फ और सिर्फ कश्मीर हड़पने की थी। वह इस कोशिश में अपना सबकुछ दांव पर लगा देने से भी पीछे नहीं हट रहा था।

Kargil War: 1999 का युद्ध और 26 जुलाई को भारतीय सेना का कब्जा

पाकिस्तान ने पेशावर के कमीश्नर की मदद से कबायलियों को कश्मीर फतह के लिए भेजा था। पाकिस्तान को लगा था कि वह श्रीनगर से कश्मीर के राजा हरि सिंह को भगाकर कश्मीर पर कब्जा कर लेगा क्योंकि राजा के पास अपनी सेना नहीं है।

पाकिस्तान का ऐसा सोचना ही उसे भारी पड़ गया था। पाकिस्तान ने तब कश्मीर में घुसपैठ कर कबायलियों के जरिए आतंक मचा दिया था। महिलाओं के साथ रेप की घटनाएं तेजी से बढ़ने लगी थी। कबायलों द्वारा लोगों को मौत के घाट उतार देना या फिर किसी के साथ मारपीट आम बात हो गई थी।

ये भी देखें-

कश्मीर में इस तरह के अशांति से राजा हरि सिंह चिंतित थे। एक वक्त ऐसा आया जब पाकिस्तानी सेना और कबायलियों ने मिलकर कश्मीर पर धावा बोल दिया। राजा हरि सिंह ने आानन-फानन में भारत से मदद मांगी। इसके बाद राजा हरि सिंह ने भारत के साथ विलय के कागजों पर हस्ताक्षर किए तो भारतीय सेना ने कश्मीर में अशांति फैले रहे सैनिकों और कबायलियों को बुरी तरह से खदेड़ दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें