CISF

सीआईएसएफ (CISF) के 9वीं रिजर्व बटालियन कैंप के गेट पर तैनात जवान बी रंजीत ने अपनी सर्विस राइफल एके 47 से खुद को ही गोली मार ली, जिसकी वजह से मौके पर ही उसकी मौत हो गई।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की एक आम सी लड़की। BSC नर्सिंग की स्टूडेंट यह लड़की बस से रोज कॉलेज आती-जाती है। एक दिन उस बस का एक्सीडेंट हो जाता हा। उस दिन बस में CISF का एक जवान भी होता। हादसे के दौरान वह लड़की उस जवान की जान बचाती है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में एक बार फिर नक्सलियों (Naxals) का उत्पात सामने आया है। 27 जून की सुबह ड्यूटी पर तैनात सीआईएसएफ (CISF) के जवानों और नक्सलियों में झड़प हो गई।

पूरा देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण की मार झेल रहा है। इस महामारी के दौर में जान की परवाह किए बिना लोगों की मदद के लिए तत्पर सुरक्षाबल के जवान भी इससे अछूते नहीं हैं। कोविड-19 (COVID-19) की लड़ाई में मोर्चा ले रहे अर्द्धसैनिक बलों के जवान भी लगातार कोरोना वायरस की चपेट में आ रहे हैं।

CISF हरदम देश के लोगों की मदद के लिए तत्पर है। कोरोना वायरस संक्रमण के चलते देश भर में हुए लॉकडाउन के दौरान CISF के जवान सबका खयाल रख रहे हैं। ये जवान सुदूर इलाके में बसे गरीब और जरूरतमंद लोगों को राशन, दवाईयां, मास्क सहित अन्य सामान मुहैया करा रहे हैं।

यह भी पढ़ें