मध्य प्रदेश: नक्सलियों का पर्चा मिलने से मचा हड़कंप, हाई अलर्ट पर थाने और चौकी

खूंखार नक्सली (Naxals) इस वक्त शहीद सप्ताह मना रहे हैं। नक्सलियों ने 28 जुलाई से लेकर 3 अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाए जाने का ऐलान किया था।

Hardcore Naxalites

सांकेतिक तस्वीर।

खूंखार नक्सली (Naxalites) इस वक्त शहीद सप्ताह मना रहे हैं। नक्सलियों ने 28 जुलाई से लेकर 3 अगस्त तक शहीद सप्ताह मनाए जाने का ऐलान किया था। इस दौरान नक्सलियों की अक्सर यह कोशिश होती है कि वो कोई बड़ी गड़बड़ी फैला कर पुलिस-प्रशासन को चुनौती दें। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बालाघाट में नक्सली पर्चे मिले हैं जिसके बाद यहां थाना, चौकी सभी को हाई अलर्ट पर रहने के लिए कहा गया है।

ऐसा कहा जाता है कि नक्सली (Naxals) मुठभेड़ में मारे गए अपने साथियों की याद में नक्सली सप्ताह मनाते हैं। कई बार वो इस दौरान बौखलाहट में आकर बड़ी साजिश को अंजाम भी देते हैं। बालाघाट में नक्सली पर्चा मिलने के बाद यहां के पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी ने जिले के सभी नक्सल प्रभावित थाने और चौकियों को हाईअलर्ट में रहने के निर्देश दिए हैं।

जम्मू कश्मीर: घाटी में पाकिस्तान की नई साजिश, पढ़े-लिखे युवाओं को इस तरह कर रहा बर्बाद

मप्र की छग और महाराष्ट्र राज्य से लगने वाली सीमाओं के सील कर दिया गया। पुलिस इस इलाके में विशेष सर्चिंग ऑपरेशन कर रही है। पुलिस अधीक्षक तिवारी ने बताया कि सीआरपीएफ, हॉक, कोबरा और जिला पुलिस बल की कई अलग-अलग टीमें जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों (Naxal Areas) में सर्चिंग के कार्य में लगाई गई हैं, जो शहीद सप्ताह के दौरान सीमावर्ती क्षेत्रों में लगातार सर्च कर रही हैं।

आपको बता दें के इस पर्चे में नक्सलियों (Naxals) ने अपने साथी रमन्ना का जिक्र किया है। ढकोसले और झूठी बातों की लंबी फेहरिस्त तैयार कर नक्सलियों ने इन पर्चों के जरिए नक्सल प्रभावित इलाकों में रहने वाले ग्रामीणों से कहा है की कि वो भी इस शहीद सप्ताह में हिस्सा लें।

हालांकि, नक्सलियों (Naxalites) की इस साजिश को नाकाम करने में जहां एक तरफ पुलिस-प्रशासन प्रयासरत है तो वहीं अब नक्सलियों को गांव वालों का साथ भी नहीं मिल रहा है। गांव वाले नक्सलियों की साजिश को समझ चुके हैं और उनके बहकावे में नहीं आते हैं। यहीं वजह है कि नक्सल प्रभावित इलाकों में पुलिस का सूचना तंत्र मजबूत हुआ है और कई बड़े नक्सलियों ने घुटने टेक दिए हैं।

यह भी पढ़ें