झारखंड: बसाना चाहता था घर, इनामी नक्सली ने गर्लफ्रेंड के साथ किया सरेंडर

झारखंड (Jharkhand) में एक इनामी नक्सली (Naxali) ने अपनी प्रेमिका के साथ पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। सरेंडर नक्सली जोड़े (Naxal Couple) ने बताया कि वे एक-दूसरे से प्यार करते हैं और लाल आतंक का रास्ता छोड़कर अपना घर बसाना चाहते हैं।

Naxal Couple

नक्सली जोड़े ने सरायकेला एसपी के सामने सरेंडर कर दिया।

झारखंड (Jharkhand) में एक इनामी नक्सली (Naxali) ने अपनी प्रेमिका के साथ पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। इनामी नक्सली राकेश मुंडा उर्फ सुखराम मुंडा ने अपनी गर्लफ्रेंड चांदनी सरदार के साथ 4 जून को सरायकेला के एसपी मो. अर्शी के सामने सरेंडर कर दिया। ये दोनों कुचाई क्षेत्र में सक्रिय थे। सरेंडर नक्सली जोड़े (Naxal Couple) ने बताया कि वे एक-दूसरे से प्यार करते हैं और लाल आतंक का रास्ता छोड़कर अपना घर बसाना चाहते हैं।

नक्सली राकेश मुंडा साल 2016 में नक्सली संगठन (Naxal Organization) में शामिल हुआ था। उसने नक्सली ट्रेनिंग ली और उसके बाद संगठन में रहते हुए कई नक्सली वारदातों को अंजाम दिया। सरकार ने उस पर दो लाख का इनाम रखा था। वहीं, चांदनी साल 2018 में नक्सली दस्ते में शामिल हुई थी।

दोनों एक ही दस्ते में थे, जहां उनमें प्यार हो गया। दो साल तक यह नक्सली जोड़ा (Naxal Couple) जंगल में एक-दूसरे का साथ देता रहा। लेकिन उन्होंने जिंदगी भर साथ रहने का वादा किया था और मुख्यधारा में लौट कर ही यह कर पाना संभव था। इसलिए उन्होंने सरेंडर कर दिया।

छत्तीसगढ़: बीजापुर में विस्फोटक बरामद; कांकेर में मुठभेड़, महिला नक्सली को लगी गोली

एसपी ने पत्रकारों को बताया कि ये दोनों कई नक्सली मामलों के वांछित अपराधी रहें हैं। कुचाई में पुलिस की गाड़ी उड़ाने वाली घटना में भी इन दोनों का हाथ था। नक्सली दस्ते में साथ रहने के दौरान दोनों नक्सली एक दूसरे के काफी करीब आ गए थे। उन दोनों को एक-दूसरे से प्यार हुआ। लेकिन वे एक साथ आम जीवन नहीं बिता पा रहे थे, इसलिए दोनों ने मुख्यधारा में आने का फैसला लिया है और आत्मसमर्पण किया है।

बता दें कि इस नक्सली जोड़े (Naxal Couple) को झारखंड सरकार की नातियों के तहत घोषित इनाम और मुआवजा का लाभ मिलेगा। राज्य सरकार ने सरेंडर करने वाले नक्सलियों को 3 लाख रुपए, घर बनाने के लिए जमीन और उनको रोजगार के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा। साथ ही उनके बच्चों की पढ़ाई का खर्च सरकार उठाएगी।

इसके अलावा उनका 5 लाख का बीमा भी होगा। फिलहाल दोनों को कोर्ट में पेश कर ओपन जेल में रखा जाएगा। जहां उनपर दर्ज मामलों के जल्द निपटारे की कोशिश की जाएगी, जिससे वे अपनी आने वाली जिंदगी खुशी से जी सकें। सरेंडर के बाद पुलिस ने तत्काल उन्हें एक-एक लाख रुपए नकद का पुरस्कार भी दिया।

यह भी पढ़ें