साथी महिला नक्सली से शादी करना चाहता था, संगठन ने जनअदालत लगा मौत की नींद सुला दिया

नक्सली आम इंसानों के साथ हैवानों सा व्यवहार करने के लिए कुख्यात हैं। एक सच यह भी है कि यह नक्सली (Naxali) अपने संगठन (Naxal Organization) के लोगों से भी क्रूरता करने से पीछे नहीं हटते।

Naxal Organization

नक्सली आम इंसानों के साथ हैवानों सा व्यवहार करने के लिए कुख्यात हैं। एक सच यह भी है कि यह नक्सली (Naxali) अपने संगठन (Naxal Organization) के लोगों से भी क्रूरता करने से पीछे नहीं हटते। नक्सलियों (Naxals) ने हाल ही में संगठन के एक साथी को इसलिए बेरहम मौत दे दी क्योंकि वो शादी करना चाहता था। मामला छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले का है।

यहां पुलिस को जगरगुंडा से करीब 8 किलोमीटर दूर स्थित चिमलीपेंट गांव के पास गुरुवार (21-05-2020) की सुबह एक युवक का शव मिला। चूकि यह इलाका नक्सलियों प्रभावित माना जाता है लिहाजा शव मिलते ही पुलिस इसकी शिनाख्त में लग गई। जल्दी ही खुलासा हुआ कि यह शव इरपा नागेश नाम के युवक की है।

राजा राम मोहन राज: जिन्होंने किया सती प्रथा और बाल विवाह का अंत, विधवा विवाह का किया समर्थन

थोड़ी ही छानबीन के बाद यह भी पता चला कि इरपा नागेश नक्सली संगठन (Naxal Organization) से ही जुड़ा था और नक्सलियों ने ही उसे जन अदालत लगाकर मौत की नींद सुला दिया था। ‘न्यूज 18’ ने सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में बताया है कि गांव के पास ही जंगल में नक्सलियों ने जनअदालत लगाई थी, जिसमें नागेश की हत्या का फरमान सुनाया गया और हत्या कर दी गई।

बताया जा रहा है कि नागेश संगठन की ही किसी महिला नक्सली (Woman Naxali) से शादी करना चाहता था लेकिन नक्सल संगठन नहीं चाहता था कि वह शादी करे इसलिए उसे मार दिया गया। पुलिस अपने मुखबिरों से इस मामले में अभी और भी जानकारी इकट्ठा करने में जुटी हुई है।

आपको बता दें कि नक्सलियों (Naxalites) द्वारा अपने ही साथी की हत्या का यह कोई पहला मामला नहीं है। कई महिला या पुरुष नक्सली सरेंडर के बाद इस बात का खुलासा कर चुके हैं कि संगठन के बड़े नक्सली संगठन (Naxal Organization) के अंदर अपनी मर्जी चलाते हैं।

सरेंडर कर चुके नक्सलियों ने बताया है कि संगठन (Naxal Organization) में प्यार या शादी करने की मनाही होती है। हालांकि बड़े नक्सलियों का परिवार होता है लेकिन संगठन में छोटे ओहदे के नक्सलियों पर कई तरह की पाबंदियां होती हैं।

नक्सलियों के अत्याचार से तंग आकर कई बार कुछ नक्सलियों ने संगठन से विद्रोह कर शादी भी की और फिर बाद में सरेंडर कर दिया।

यह भी पढ़ें