घाटी में आतंकी घटना से निपटने के लिए सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर, 26 जनवरी पर हमले की आशंका

Terrorists

डीएसपी देवेंदर सिंह व उनके साथ तीन आतंकियों (Terrorists) के पकड़े जाने के बाद से घाटी से लेकर जम्मू तक अब तक हुई अन्य आतंकियों (Terrorists) व संदिग्ध की गिरफ्तारियों ने सुरक्षा एजेंसियों के लिए चुनौती खड़ी कर दी है। नतीजतन‚ खासकर गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंकियों (Terrorists) की किसी भी अप्रिय घटना को नेस्तनाबूद करने के लिए खुफिया तथा सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह सतर्क हैं।

Terrorists

सूत्रों का कहना है कि गणतंत्र दिवस के मौके पर पाकिस्तान की दिशा से बिना उकसावे की गोलाबारी कर आतंकियों (Terrorists) की घुसपैठ के लिए दबाव बनाया जा सकता है। भारत–पाक सीमा तथा नियंत्रण रेखा समेत समूची सरहद पर सुरक्षाबल हाई अलर्ट पर हैं लेकिन इन सरहदी इलाकों में रहने वाले सीमांतवासियों में किसी भी प्रकार के अनिष्ट की आशंका बनी हुई है।

बताते चलें कि पाकिस्तान की ओर से गत एक अरसे से विषेशकर नियंत्रण रेखा पर कई बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर सीमांतवासियों को निशाना बनाया गया। सरहद से 5 किलोमीटर दायरे के भीतर पड़ने वाले शिक्षण संस्थानों पर भी गोलाबारी की गई। इसमें नियंत्रण रेखा का जुड़वां जिला पुंछ में अरसा पूर्व गोलाबारी होने के कारण वहां स्कूल में मौजूद बच्चों को बेहद मुश्किल से सुरक्षित निकाला जा सका था।

ड़ीएसपी देवेंदर सिंह और उसके साथ काजीकुंड़ इलाके से पकड़े़ गए तीन मोस्टवांटेड़ आतंकियों (Terrorists) से लगातार की जा रही पूछताछ में जो खुलासे हो रहे हैं‚ उससे हर कोई हतप्रभ है। सूत्रों का कहना है कि राज्य पुलिस से लेकर राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानि एनआईए (NIA) की पूछताछ में देवेंद्र सिंह से जो जानकारियां मिल रही हैं‚ उससे सुरक्षा एजंसियां चौकन्नी हैं।

UN: दुनिया को गुमराह और नफरत फैलाने के लिए भारत के खिलाफ जहर उगलता है पाक

इस बीच एक सुरक्षा एजेंसी से जुड़े सूत्र का कहना है कि इस प्रकार की आशंक बनी हुई है कि कहीं आतंकी घाटी‚ जम्मू से लेकर नई दिल्ली तक किसी बड़ी साजिश को अंजाम न दें। राज्य पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह का कहना है कि गत वर्षों की अपेक्षा इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर यहां चप्पे–चप्पे पर सुरक्षा की दृष्टि से पैनी निगाह रखी जा रही है। इसमें विभिन्न सुरक्षा उपकरणों से लेकर पर्याप्त संख्या में पुलिस‚ सेना व अन्य अर्ध-सैनिकबलों की तैनाती की गई है। प्रदेश में होने वाले गणतंत्र दिवस समारोह की सुरक्षा बेहद कड़ी की जा रही है। 

यह भी पढ़ें