दिल्ली दंगे का ‘पाक कनेक्शन’, ISI के विदेशी हैंडलर ने आपत्तिजनक पोस्ट कर भड़काया दंगा

साइबर सेल ने सोशल मीडिया के जरिए भड़काऊ पोस्ट को लेकर कुल 16 मुकदमे दर्ज किए हैं जबकि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनकी पहचान उजागर की जा रही है।

Delhi Violence

दिल्ली दंगे (Delhi Violence) को लेकर विदेशी कनेक्शन का खुलासा हुआ है। साइबर सेल सूत्रों की माने तो सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्म पर कई विदेशी हैंडलर ने आपत्तिजनक पोस्ट डालकर उत्तर–पूर्व दिल्ली में रहने वाले दो समुदायों के बीच खाई उत्पन्न की थी। इस वजह से अचानक माहौल खराब हुआ और बाद में सोशल मीडिया के जरिए दंगे भड़काने (Delhi Violence) में इस तरह के पोस्ट ने आग में घी डालने का भी काम किया। इनमें से कई वीडियो‚ वेब लिंक व अन्य कंटेंट आदि को हटा दिया गया है या फिर उन्हें सस्पेंड किया है ताकि और माहौल खराब नहीं हो पाए।

Delhi Violence

साइबर सेल ने सोशल मीडिया के जरिए भड़काऊ पोस्ट को लेकर कुल 16 मुकदमे दर्ज किए हैं जबकि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनकी पहचान उजागर की जा रही है।

पढ़ें: बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष का घर भी जलकर खाक

पुलिस सूत्रों की माने तो सोशल मीडिया के प्लेटफार्म ट्वीटर‚ फेसबुक‚ इंस्टाग्राम व्हाट्सएप ग्रुप आदि पर दिल्ली दंगे (Delhi Violence) को लेकर कई आपतिजनक पोस्ट डाले गए थे। इनमें कई पोस्ट भारत में रहने वाले लोगों ने किए‚ जिसे कई और अन्य लोगों द्वारा शेयर किया गया लेकिन साइबर सेल को उस वक्त ज्यादा हैरानी हुई जब विदेश में बैठे लोगों ने भी इस तरह के पोस्ट सोशल मीडिया पर डालकर माहौल खराब करने का काम शुरू कर दिया।

सबसे ज्यादा पोस्ट 24 फरवरी से 26 फरवरी के बीच देश के बाहर से किए गए और विदेशी हैंडलर ने कई सोशल प्लेटफार्म का बेजां दुरुपयोग किया ताकि भारत की छवि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खराब की जा सके।

सूत्रों ने दावा किया कि आशंका है कि पाकिस्तान (Pakistan) की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के निर्देश पर कई विदेशी हैंडलरों ने काफी सोशल मीडिया अकाउंट्स के जरिए आपत्तिजनक पोस्ट‚ कांट–छांट कर बनाए गए वीडि़यो व वेब लिंक आदि सोशल मीडिया पर डाले थे। इनमें से कई कंटेट को हटाए जाने के लिए अनुरोध किया गया है जबकि कई पोस्ट को या तो हटा लिया गया है या फिर उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है।

दिल्ली पुलिस का कहना है कि इस तरह की सामग्री सोशल मीडिया पर बिल्कुल भी नही डालें जिससे धार्मिक हिंसा भड़कने की आंशका हो।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सोशल मीडिया पर किए गए आपत्तिजनक सामग्री को लेकर कुल 16 मुकदमे दर्ज किए हैं‚ जो उत्तर पूर्व दिल्ली में हुए प्राथमिकी से अलग हैं। इनमें कई नामी गिरामी लोग भी जांच के दायरे में आ सकते हैं जबकि विदेशी हैंडलर की पहचान की भी कोशिश की जा रही है। इसके लिए विदेशी एजेंसियों की भी मदद ली जा रही है।