घाटी में तेजी से पांव पसार रहा है वायरस, दिल्ली से इलाज करा के लौटे दंपत्ति के 4 महीने की बच्ची को हुआ कोरोना

जिस प्रकार जम्मू संभाग में कोरोना (Coronavirus) के पाजिटिव मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। उससे आने वाले दिन प्रशासन के लिए बड़ी चुनौतियों वाले साबित हो सकते हैं।

Coronavirus

Jammu Kashmir Coronavirus cases increase

घाटी के बाद अब जम्मू शहर व उसके आसपास के इलाकों में तेजी से पांव पसार रहे कोरोना (Coronavirus) के मामलों के साथ साथ यहां बनाए गए क्वारंटीन सेंटर को लेकर प्रशासन के सामने नई चुनौतिया खड़ी हो रही हैं। जम्मू के एमएमए स्टेडियम में बनाया गया क्वारंटीन सेंटर हो अथवा जम्मू संभाग के जिला सांबा‚ कठुआ‚ उधमपुर में इन सेंटरों को लेकर लोगों में आक्रोश है।  

सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि जम्मू के एमएमए स्टेडियम के क्वारंटीन सेंटर में कई लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। इनमें एक 4 माह की बच्ची व उसके माता–पिता का मामला उल्लेखनीय है। यह लोग दिल्ली से बच्ची का इलाज करवाकर जम्मू लौटे थे तो उन्हें एमएमए स्टेडि़यम में क्वारंटीन किया गया। बाद में टेस्ट रिपोर्ट में यह तीनों पाजिटिव पाए गए। जबकि इन्हें कोरोना (Coronavirus) संबंधी कोई शिकायत नहीं थी। क्वारंटीन किए गए लोगों ने यहां की अव्यवस्था को लेकर असंतोष व नाराजगी का इजहार किया।

Jammu-Kashmir: पुलवामा में सुरक्षाबलों पर आतंकी हमला, एक जवान शहीद

पिछली 3 मई को प्रशासन के सूत्रों ने यह दावा किया था कि जम्मू जिला कोरोना (Coronavirus) मुक्त हो गया है। तब क्वारंटीन किए गए 26 मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें छुटटी दे दी गई थी। मगर उसके ठीक एक दिन बाद जम्मू शहर के बक्शी नगर की एक महिला पॉजिटिव पाई गई। फिर उसके बाद से पाजिटिव मामलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। कहा यह भी जा रहा है कि जम्मू में जो टेस्ट किए जा रहे हैं वह कम संख्या में हैं।

जम्मू में जिन इलाकों में यह वायरस अभी तक सामने आया है‚ उनमें बक्शी नगर के गुड़ा सलाथियां ‚ नरवाल‚ त्रिकुटानगर‚ गांधी नगर‚ प्रीतनगर के अलावा रायपुर सतवारी प्रमुख हैं। रायपुर सतवारी के घनी आवादी इलाके का जम्मू की जिला मजिस्टेट सुषमा चौहान ने स्वयं जायजा लेकर उसे रेड़ क्षेत्र घोषित करने के साथ किसी भी शख्स की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है।

जिस प्रकार जम्मू संभाग में कोरोना (Coronavirus) के पाजिटिव मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है। उससे आने वाले दिन प्रशासन के लिए बड़ी चुनौतियों वाले साबित हो सकते हैं।

इन सब हालात के बीच लॉकडाउन–4 में मिली रियायतों का लोग बेजा इस्तेमाल कर रहे हैं। जिससे यहां इस महामारी के व्यापक रूप लेने की आशंका दिखाई देती है।

नियंत्रण रेखा के पुंछ को ग्रीन जोन में रखा गया था। लेकिन स्थानीय लोगों द्वारा मास्क न पहनने से लेकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने के चलते यहां अब कई पॉजिटिव मामले दर्ज हुए हैं। स्थानीय लोगों द्वारा एहतियात न बरतने के कारण यहां कोरोना (Coronavirus) के दर्ज मामलों पर जिला मजिस्टेट राहुल यादव ने भी अपनी तीखी नाराजगी जाहिर की है। इस बीच जम्मू संभाग के सांबा व कठुआ में बने क्वारंटीन सेंटरों में अव्यवस्था को लेकर लोगों में खासा रोष देखने को मिल रहा है।

वहीं‚ उधमपुर में बनाए जा रहे क्वारंटीन सेंटर से लोगों में ये भय है कि इस महामारी का वायरस कहीं यहां ना फैल जाये। इसलिए इन सेंटरों को बाहर बनाया जा सके।

यह भी पढ़ें