झारखंड: सिमडेगा पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, PLFI के जोनल कमांडर सहित दो नक्सलियों को किया गिरफ्तार

सिमडेगा पुलिस (Police) ने बहुत ही सूझबूझ और तत्परता से दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि इन गिरफ्तार नक्सलियों (Naxals) के पास से कुछ हथियार और अन्य आपत्तिजनक सामान भी बरामद किया गया है।

Naxals

सिमडेगा से गिरफ्तार नक्सली।

झारखंड (Jharkhand) के सिमडेगा पुलिस को उस समय बड़ी सफलता मिली जब पुलिस ने उग्रवादी संगठन पीएलएफआई (PLFI) के जोनल कमांडर सचित सिंह और उसके एक खास साथी जॉन सुरीन को जलडेगा के परवा जंगल से छापेमारी कर गिरफ्तार कर लिया। पुलिस (Police) ने बहुत ही सूझबूझ और तत्परता से यह कामयाबी हासिल की है। बताया जा रहा है कि इन गिरफ्तार नक्सलियों (Naxals) के पास से कुछ हथियार और अन्य आपत्तिजनक सामान भी बरामद किया गया है।

सिमडेगा पुलिस कप्तान के अनुसार, उक्त जंगल में उग्रवादी संगठन पीएलएफआई (PLFI) के कुछ नक्सलियों (Naxalites) द्वारा किसी अप्रिय घटना को अंजाम देने की योजना बनाई जा रही थी। जिसकी सूचना मिलते ही पुलिस की स्पेशल टीम गठित कर सर्च अभियान शुरू किया गया। पुलिस की टीम परवा जंगल में पहुंची। पर नक्सलियों (Naxals) को इसकी भनक लग गई।

कश्मीर में बैठे मौत के सौदागरों के डेथ वारंट पर भारतीय सेना ने किये हस्ताक्षर

पुलिस को अपनी तरफ आता देख नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कर्रवाई करते हुए पुलिस ने भी फायरिंग की। इस दौरान पुलिस को भारी पड़ता देख नक्सली जान बचा कर भागने में सफल रहे। लेकिन इन नक्सलियों का कमांडर पुलिसिया घेराबंदी से भागने में सफल नहीं हो सका। एक साथी नक्सली (Naxali) के साथ पुलिस की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

बताया जा रहा है कि जंगल में ये नक्सली (Naxals) विकास कार्यों में लगे ठेकेदारों और बीड़ी पता के ठेकेदारों से लेवी वसूलने का प्लान बना रहे थे। इस संदर्भ में सिमडेगा पुलिस कप्तान संजीव कुमार ने बताया है कि उग्रवदियों और नक्सलियों का सफाया करने में पुलिस अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन जान की बाजी लगा कर रही है। उन्होंने कहा है कि लॉकडाउन में इन उग्रवादियों की तिलमिलाहट समझी जा सकती है। ये उग्रवादी किसी भी हद तक जा सकते हैं। लेकिन इनके मंसूबों पर पुलिस हमेशा पानी फेरने की कोशिश करती है। जल्द ही कई और उग्रवादियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजा जाएगा।

बता दें कि सिमडेगा पुलिस ने पिछले सप्ताह एक नक्सली को मार गिराया था तथा पांच नक्सलियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की थी। अब देखना होगा की पीएलएफआई (PLFI) जैसे अन्य उग्रवादी संगठनों से संबंध रखने वाले उग्रवादियों अथवा बड़े इनामी नक्सली (Naxali) कब तक पुलिस से बच पाएंगे। झारखंडके सभी जिलों में मौजूदा वक्त में नक्सलियों (Naxals) और उग्रवादियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है और इसमें पुलिस को सफलता भी मिल रही है।

यह भी पढ़ें