नक्सलियों ने पर्चा फेंक दी धमकी- हर गांव से 10 युवक-युवतियां संगठन में हों शामिल, पुलिस जुटी जांच में

पिछले कुछ सालों में सरकार औऱ प्रशासन की बेमिसाल कोशिशों ने नक्सलियों (Naxals) को समेट कर रख दिया है। इस बात से झल्लाए नक्सली किसी तरह अब अपने सिमटते संगठन में युवाओं को बरगलाकर शामिल करने में जुटे हुए हैं।

Naxals

फाइल फोटो।

पिछले कुछ सालों में सरकार और प्रशासन की बेमिसाल कोशिशों ने नक्सलियों (Naxals) को समेट कर रख दिया है। इस बात से झल्लाए नक्सली किसी तरह अब अपने सिमटते संगठन में युवाओं को बरगलाकर शामिल करने में जुटे हुए हैं। नक्सल प्रभावित पश्चिमी सिंहभूम के कुछ इलाकों में नक्सलियों ने पर्चे फेंके हैं और गांव के युवाओं को संगठन में शामिल होने के लिए कहा है।

इतना ही नहीं शामिल नहीं होने पर अंजाम भुगतने की धमकी भी दी है। इस मामले में पुलिस ने प्रतिबंधित भाकपा माओवादी प्रशांत बोस, मिसिर बेसरा, अनमोल, मोछु, सुरेश मुंडा, कांडे होनहागा, लोदरो लोहार, राहत, सागेन अनिता समेत अन्य संगठन के माओवादी के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया है।

मिठाई की दुकान चलाते थे करण जौहर के पिता यश जौहर, ऐसे चमका बॉलीवुड में उनका ‘जौहर’

इन नक्सलियों (Naxals) पर आरोप है कि वो इन इलाकों में बसे प्रत्येक गांव से 10-10 युवक या युवतियों को संगठन में भर्ती करने की मांग कर रहे हैं। इतना ही नहीं नक्सली नाबालिग बच्चों को भी संगठन में शामिल कराने के लिए उनके मां-बाप को धमकी दे रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कुछ दिनों पहले टोटों थाना क्षेत्र के सुदूरवर्ती गांव में प्रतिबंधित भाकपा माओवादियों द्वारा ग्रामीण मुंडा, डाकुवा को संबोधित करते हुए हस्तलिखित पत्रा एवं पर्चा फेंका गया है।

भारत चीन सीमा विवाद: सैनिकों के लिए प्रेरणा बनी शहीद हवलदार पलानी के साहस की कहानी, उखाड़ फेके थे चीनी टेंट

इसकी सूचना होने के बाद पुलिस ने तत्वरित कार्रवाई करते हुए घटना स्थल पहुंच कर पर्चा भी बरामद किया है। जिसमें कोल्हान एरिया पार्टी भाकपा माओवादी व दक्षिणी जोनल कमिटी भाकपा माओवादी संगठन द्वारा नक्सली पर्चा बरामद किया है।

बताया जा रहा है कि नक्सलियों (Naxalites) की नजर उन प्रवासी मजदूरों पर हैं जो लॉकडाउन के दौरान घर लौटे हैं और फिलहाल रोजगार की तलाश में हैं। महाराष्ट्र, गुजरात समेत कई अन्य राज्यों से घर लौटे युवाओं के परिवार वालों को धमकी देकर नक्सली बंदूक की नोंक पर उन्हें ‘लाल आतंक’ का चोला पहनाना चाहते हैं।

भारत चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी में झड़प वाली जगह से पहली बार पीछे हटी चीन की सेना

नक्सलियों (Naxals) ने कई ग्राम प्रधान को भी कहा है कि वो इन युवाओं को संगठन में भेजने में उनकी मदद करें। बहरहाल अब पुलिस इस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

वहीं यहां के पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने यहां के आम नागरिकों से अपील की है कि वो नक्सलियों से डरे नहीं और उनके बहकावे में ना आएं। प्रशासन ने यहां साफ किया है कि इलाके में नक्सली गतिविधियों पर उनकी नजर है और नक्सली अपनी मंशा में कभी कामयाब नहीं हो पाएंगे।

यह भी पढ़ें