झारखंड: गुमला में महिला ने कायम की बहादुरी की मिसाल, खूंखार नक्सली कमांडर को मार गिराया

इस बहादुर महिला ने अपने घर में घुसे पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) के एरिया कमांडर से लोहा लिया और उसे मार गिराया। इसके बाद नक्सली दस्ते के अन्य सदस्य डर के मारे मौके से भाग निकले।

PLFI Area Commander

खूंखार नक्सली कमांडर को मार गिराने वाली विनीता उरांव।

एक ओर जहां कोरोना वायरस (Corona Virus) की वजह से लोग परेशान हैं, वहीं झारखंड (Jharkhand) में एक महिला ने अपनी बहादुरी का परचम लहराया है। झारखंड के गुमला में एक महिला ने खूंखार नक्सली (Naxali) से दो-दो हाथ किया और फिर उसे मार गिराया। जानकारी के मुताबिक, जिले के सदर थाना क्षेत्र स्थित वृंदा नायकटोली गांव में 27 वर्षीया विनीता उरांव ने अपने घर में घुसे पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) के एरिया कमांडर बसंत गोप से लोहा लिया और उसे मार गिराया। इसके बाद नक्सली दस्ते के अन्य सदस्य डर के मारे मौके से भाग निकले।

गुमला के पुलिस अधीक्षक हरदीप पी जनार्दन ने इस घटना की जानकारी दी। पुलिस अधीक्षक के मुताबिक, नक्सली एरिया कमांडर बसंत गोप ने जब अपने दस्ते के साथ विनीता के परिवार की हत्या करने के लिए उनके घर में घुसने की कोशिश की तो विनीता उरांव ने साहस का परिचय देते हुए टांगी से एरिया कमांडर पर वार कर दिया। इसके बाद सभी उग्रवादी फायरिंग करते हुए अपने कमांडर के शव को लेकर वहां से भाग खड़े हुए।

भारत में कोरोना का तांडव जारी, पिछले 24 घंटे में सामने आए 3,390 नए मामले

पुलिस अधीक्षक के अनुसार, पीएलएफआई (PLFI) ने दो साल पहले एक व्यक्ति की हत्या की थी, इस मामले में परिवार को अदालत में गवाही नहीं देने के लिए डराया धमकाया जा रहा था। बता दें कि इसी क्रम में पीएलएफआई (PLFI) का एरिया कमांडर कुछ लोगों के साथ इस परिवार के घर गया था। वह परिवार के सदस्यों को नुकसान पहुंचाना चाहता था। लेकिन उसे अंदाजा नहीं था कि उसके साथ क्या होने वाला है।

अपने परिवार को बचाने के लिए विनीता उस खूंखार नक्सली कमांडर (Naxali Commander) पर टूट पड़ी। उसने टांगी से उसपर वार कर दिया, जिससे मौके पर ही इस नक्सली (Naxalite) की मौत हो गई। अपने कमांडर की यह हालत देखकर दस्ते के बाकी नक्सलियों (Naxals) के हाथ-पैर फूल गए। वे डर के मारे कमांडर का शव उठाकर वहां से भाग खड़े हुए।

आज विनीता की हिम्मत और साहस की वजह से उसके घर के सभी सदस्य जिंदा हैं। हालांकि, नक्सलियों के दुबारा हमले का डर भी सता रहा है। पर, गुमला पुलिस परिवार की सुरक्षा में लगी हुई है। गुमला से 10 किमी दूर वृंदा नायकटोली में पुलिस कैंप कर रही है। गुमला के पुलिस अधीक्षक एचपी जनार्दनन ने विनीता के परिवार की सुरक्षा का भरोसा दिलाया है। इधर, विनीता की बहादुरी के बाद आदिवासी समाज के लोग उसकी प्रशंसा कर रहे हैं। उसकी हिम्मत को सलाम कर रहे हैं।