‘कोई काम मत करना नहीं तो जिंदा जला दिए जाओगे,’ नक्सलियों ने दी बड़ी धमकी

जब तक हमारा (नक्सलियों का) आदेश नहीं होगा तब तक पुल निर्माण का काम नहीं होगा। नक्सलियों के इस तुगलकी फरमान से झारखंड के चतरा में काम में लगे मजदूरों और काम करा रही कंस्ट्रक्शन कंपनी के होश उड़ हुए हैं।

कंस्ट्रक्शन कंपनी, विकास कार्यों के दुश्मन, नक्सली, नक्सलियों की धमकी, नक्सलियों ने दी जान से मारने की धमकी, नक्सली परमजीत सिंह, झारखंड पुलिस

नक्सलियों ने पुल का निर्माण कार्य रुकवाया। सांकेतिक तस्वीर।

जब तक हमारा (नक्सलियों का) आदेश नहीं होगा तब तक पुल निर्माण का काम नहीं होगा। नक्सलियों के इस तुगलकी फरमान से झारखंड के चतरा में काम में लगे मजदूरों और काम करा रही कंस्ट्रक्शन कंपनी के होश उड़ हुए हैं। विकास कार्यों के दुश्मन नक्सलियों ने शुक्रवार (12-07-2019) की अहले सुबह यह फरमान सुनाकर हड़कंप मचा दिया है। दरअसल के चतरा जिले अंतर्गत सिमरिया थाना क्षेत्र के जबड़ा पंचायत के खरवा महुआ गांव में पीडब्ल्यूडी द्वारा निर्माण कार्य चलाया जा रहा है। यहां नाले का निर्माण जोर-शोर से किया जा रहा था।

लेकिन नक्सलियों ने सरकारी काम में बाधा पहुंचाते हुए यहां आकर काम को रोक दिया। यहां काम में जुटे लोगों की मानें तो नक्सलियों ने कहा कि ‘जब तक नक्सलियों की अनुमति नहीं होगी कोई भी यहां काम नहीं होगा तथा जबरन काम करने पर मौत के घाट उतार दिया जाएगा।’ इतना ही नहीं नक्सलियों ने पुल पर काम कर रहे मजदूरों को अमानवीय रूप से पीटा और कहा कि जब तक हमारा आदेश नहीं होगा तब तक यहां पुल निर्माण नहीं होगा।

झारखंड में दम तोड़ रहा नक्सलवाद, आंकड़े दे रहे हैं गवाही

बताया जाता है कि नक्सली परमजीत सिंह के नेतृत्व में 20 की संख्या में आए नक्सलियों ने पुल निर्माण कार्य में लगे सहाय कंस्ट्रक्शन के कर्मियों की पिटाई की और काम बंद करवाया। नक्सिलयों ने कहा कि ‘कोई काम मत करना नहीं तो जिंदा जला दिए जाओगे।’ इस दौरान नक्सलियों ने हस्तलिखित पर्चा छोड़ यह संदेश दिया है कि कि बिना अनुमति के कोई काम कार्य इस क्षेत्र में मत करना। नक्सलियों ने कहा कि आम्रपाली सहित अन्य कोयला खदानों में जो लोग विस्थापित हुए हैं उनकी समस्या का अविलंब निदान करें नहीं तो नक्सली कार्रवाई की जाएगी।

दहशत फैलाने के लिए नक्सलियों ने एक नंबर देकर ठेकेदार को बात करने के लिए भी कहा। वह है 9108790191…बहरहाल अब इस घटना के बाद पुलिस इस नंबर की भी जांच कर रही है। फिलहाल पुलिस को कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। हालांकि, प्रशासन ने यहां काम में लगे मजदूरों को भरोसा दिलाया है कि उन्हें नक्सलियों की इस धमकी से डरने की कोई जरुरत नहीं है।

म्यूजिक टीचर बन करती थी यह गंदा काम, 10 फर्जी आधार कार्ड रखने वाला दंपत्ति धराया

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App