Jharkhand Naxal

झारखंड (Jharkhand) में आखिरी सांसें ले रहे नक्सली संगठन (Naxal Organizations) एक बार अपना वर्चस्व बनाने की कोशिश कर रहे हैं। आए दिन वे किसी न किसी वारदात को अंजाम दे रहे हैं। इससे राज्य में एक बार फिर दहशत पैदा होने लगा है।

नक्सलियों को उनके गढ़ में घुसकर सीने पर वार करने वाले हमारे जवान हमेशा देश की रक्षा में जुटे रहते हैं। ये जवान सरहद पर ही नहीं बल्कि देश के अंदर ही देश के लिए काला धब्बा बन चुके नक्सलियों (Naxalites) से लड़ते हैं।

Pathalgadi आंदोलन की मास्टर माइंड Belosa Babita Kachhap को गुजरात ATS ने धर दबोचा। दो अन्य नक्सली भी गिरफ्तार। बबीता के खिलाफ दर्ज हैं कई संगीन मामले।

झारखंड (Jharkhand), बंगाल (Bengal) और ओडिशा (Odisha) में कई वारदातों को अंजाम देने वाले हार्डकोर इनामी नक्सली (Naxali) सुभाष मुंडा को पुलिस (Police) ने गिरफ्तार कर लिया है।

अपनी कल्पनाशीलता से कई तरह के अविष्कार कर चुके मो. जुनैद ने बढ़ते प्रदूषण और असंतुलित होते पर्यावरण को देखते हुए जुगाड़ से बैट्री से चलने वाली इलेक्ट्रिक स्कूटी (Electric Scooty) बनाकर सबको हैरत में डाल दिया है।

झारखंड के लोहरदगा और लातेहार जिले की सीमा पर 13 दिसंबर को नक्सलियों ने आईईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) ब्लास्ट किया। आईईडी (IED) ब्लास्ट होने से एक ग्रामीण की मौत हो गई और एक ग्रामीण गंभीर रूप से घायल हो गया।

झारखंड के लोहरदगा जिले के पेशरार थाना क्षेत्र के नक्सल ग्रस्त बुलबुल गांव के पास 9 दिसंबर को भाकपा माओवादी के रीजनल कमिटी सदस्य रविंद्र गंझू के दस्ते और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई।

झारखंड की राजधानी रांची के ग्रामीण इलाकों में कई माओवादी संगठन इन दिनों काफी सक्रिय हैं। इन इलाकों में टीपीसी, पीएलएफआई के उग्रवादी हर वक्त किसी हिंसा की साजिश रचने की फिराक में लगे रहते हैं।

झारखंड के गुमला जिले के बसिया अनुमंडल की पुलिस ने पीएलएफआई (PLFI) के दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया।

झारखंड के हजारीबाग जिले में नक्सलियों ने एक बार फिर जबरदस्त तरीके से अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है। इस बार नक्सलियों ने यहां एक, दो नहीं बल्कि 7 वाहनों को आग के हवाले कर दिया है।

नक्सल प्रभावित Jharkhand के चतरा जोरी थाना क्षेत्र के गोवे जंगल में 2 अक्टूबर को नक्सलियों एवं पुलिस में मुठभेड़ हुई। जिसमें चतरा पुलिस ने नक्सलियों के बड़े नापाक मंसूबे को विफल कर दिया।

जानकारी के मुताबिक सेप एवं जिला बल के जवानों ने झारखंड के गिरीडीह एवं बोकारो जिला की सीमा क्षेत्र में नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी अभियान चलाकर उन्हें चारों खाने चित करने की कवायद तेज कर दी है।

निदेशालय के अधिकारियों ने इस मामले की जांच के दौरान मिले सबूतों के आधार पर यह कार्रवाई की है। उन्होंने बताया कि चतरा जिले की आम्रपाली एवं मगध कोयला खनन परियोजनाओं से इन नक्सली संगठन ने व्यापारियों एवं कोयले के ठेकेदारों से यह वसूली की थी।

पुलिस अधीक्षक इंदजीत माहथा के अनुसार, सूचना मिली थी कि भाकपा माओवादी का एक सक्रिय सदस्य स्कूटी से भरंडिया से नकटी जा रहा है। उसके पास पोस्टर, पर्ची और बैनर भी है।

यह सारी कवायद नक्सलियों को कमजोर करने की है। 10 लाख इनामी जोनल कमांडर मृत्युजंय भुईयां उर्फ अवधेश जी ने अपने परिजनों के नाम पर अचल संपत्ति बना रखी थी। सूचना पर प्रशासन की ओर से उसे जब्त कर लिया गया।

रांची समेत झारखंड के कई जिलों के थानों में इस उग्रवादी पर केस दर्ज थे। यह उग्रवादी एक बार फिर रांची में किसा बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में था। लेकिन इससे पहले की वो अपने मकसद में कामयाब हो पाता वो चढ़ गया पुलिस के हत्थे।

कुख्यात नक्सली महाराज प्रमाणिक के करीबियों को दबोचने के बाद अब ऐसा लग रहा है कि पुलिस नक्सलियों के बड़े राज बेपर्दा करने में कामयाब हो जाएगी।

यह भी पढ़ें