कोरोना का कहर: कैंसिल टिकटों का किराया नहीं लौटाएंगी विमानन कंपनियां

कोरोना वायरस (Coronavirus) के मद्देनजर जारी लॉकडाउन (Lockdown) और अस्थायी तौर पर देश में सभी नियमित यात्री उड़ानों पर प्रतिबंध के बीच विमान सेवा कंपनियां लोगों को किराए के पैसे नहीं लौटा रही है जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यात्री संख्या के लिहाज से देश की सबसे बड़ी विमान सेवा कंपनी इंडिगो (Indigo) ने बताया कि जिन यात्रियों ने 30 अप्रैल तक की यात्रा के लिए टिकट बुक कराए हैं उनके द्वारा टिकट रद्द कराने पर उन्हें पैसे लौटाने की बजाए रिजर्वेशन क्रेडिट दिया जाएगा।
Coronavirus
Coronavirus in India: लॉकडाउन के दौरान जिन यात्रियों ने अपनी यात्रा के लिए टिकट खरीदा था अब उन्हें टिकट रद्द कराने का कोई किराया वापस नहीं दिया जा रहा बल्कि इसके बदले कुछ एयरलाइंस कंपनियां रिजर्वेशन क्रेडिट की सुविधा दे रही हैं। — प्रतिकात्मक तस्वीर
 
यात्री ‘रिजर्वेशन क्रेडिट’ का इस्तेमाल उसी नाम से 30 सितम्बर तक टिकट बुक कराने के लिए कर सकेंगे। यात्री 30 सितंबर तक की यात्रा के लिए बुक कराए टिकट की तारीख में बदलाव भी करा सकते है। इसके लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा किराया ज्यादा होने की स्थिति में हालांकि मूल्य का अंतर यात्री को देना होगा। यात्रा की परिवर्तित तारीख भी 30 सितम्बर तक ही होनी चाहिए।
किफायती विमान सेवा कंपनी स्पाइसजेट (Spicejet) ने बताया कि यात्री उड़ानों पर सरकार के पूर्ण प्रतिबंध के कारण 25 मार्च से 31 मार्च तक की यात्रा के सभी टिकट वह स्वतः रद्द कर रही है। इसके बदले वह यात्रियों को रिजर्वेशन क्रेडिट देगी जिसका इस्तेमाल यात्रा की मूल तारीख से एक साल के भीतर इस नाम से टिकट वुक कराने के लिए किया जा सकेगा।
 
गोएयर (Go Air) ने बताया कि 15 अप्रैल तक की यात्रा के लिए टिकट बुक कराने वाले बुक यात्री यदि उड़ान पकड़ने के लिए नहीं आते है तो कंपनी स्वतः उनका पीएनआर सुरक्षित कर देगी। उस पैसे का इस्तेमाल एक साल तक टिकट बुक कराने के लिए किया जा सकेगा।
 
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here