छत्तीसगढ़: पुलिस के लिए मुखबिरी करने का आरोप लगा नक्सलियों ने दो ग्रामीणों की कर दी हत्या

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों (Naxalites) ने अलग-अलग जगहों पर दो ग्रामीणों की हत्या कर दी। पुलिस ने 29 फरवरी को यह जानकारी दी।

Naxalites

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों (Naxalites) ने अलग-अलग जगहों पर दो ग्रामीणों की हत्या कर दी।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों (Naxalites) ने अलग-अलग जगहों पर दो ग्रामीणों की हत्या कर दी। पुलिस ने 29 फरवरी को यह जानकारी दी। पुलिस के मुताबिक, जिले के तोंगपाल थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोलोमकोंटा गांव में मुचाकी हिड़मा और चिंतलनार थाना क्षेत्र के अंतर्गत मुकरम गांव में माड़वी उर्रा की नक्सलियों ने हत्या कर दी।

Naxalites
सांकेतिक तस्वीर।

पुलिस के अनुसार, नक्सलियों ने दोनों ग्रामीणों की 28 फरवरी की रात हत्या की थी। दोनों शवों को 29 फरवरी को बरामद किया गया। जानकारी के मुताबिक, हथियार बंद नक्सलियों (Naxalites) के दस्ता 28 फरवरी की रात हिड़मा के घर पहुंचा। हिड़मा पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप लगाते हुए नक्सलियों ने हिड़मा की गला रेतकर हत्या कर दी। हत्या के बाद नक्सलियों ने हिड़मा की पत्नी से हिड़मा का मोबाइल मांगा।

जब उसकी पत्नी ने मोबाइल देने से इंकार किया तो नक्सलियों (Naxalites) ने उसकी भी बेरहमी से पिटाई की। जब कुछ लोग उसे बचाने गए तो नक्सलियों ने उनकी भी पिटाई कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद नक्सली मौके से फरार हो गए। पुलिस के अनुसार, 29 फरवरी की सुबह हिड़मा की पत्नी और अन्य ग्रामीणों ने नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया।

नक्सलवाद पर भारी मोहब्बत: बगावत कर नक्सली जोड़े ने लिख डाली अनोखी प्रेम कहानी…

एक अन्य घटना में चिंतलनार थाना क्षेत्र के अंतर्गत मुकरम गांव में नक्सली एक ग्रामीण माड़वी उर्रा के यहां पहुंचे और उसे अपने साथ पास के जंगल में ले गए। वहां उन्होंने उर्रा की धारदार हथियार से हत्या कर दी। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, हिड़मा और उर्रा कुछ साल पहले तक नक्सलियों (Naxalites) के साथ थे। वे जेल में भी रह चुके हैं।

पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है और हत्या के लिए जिम्मेदार नक्सलियों की तलाश कर रही है। बता दें कि नक्सली आए दिन ऐसी वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। पुलिस का मुखबिर होने का इल्जाम लगाकर वे निर्दोष गांव वालों के साथ मार-पीट करते हैं और उनकी हत्या कर देते हैं। हालांकि, पुलिस पूरी तरह मुस्तैद है। नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ अभियान लगातार चलाया जा रहा है।

पढ़ें: दंगाइयों से होगी सरकारी संपत्ति के नुकसान की वसूली, 254 मामले दर्ज और 903 की गिरफ्तारी