बिहार: SSB ने पुलिस के साथ मिलकर महिला नक्सली को दबोचा, लंबे समय से चल रही थी फरार

बिहार की वैशाली पुलिस और सशस्त्र सीमा बल (SSB) की संयुक्त छापेमारी में 24 फरवरी को फरार महिला नक्सली लाल मुन्नी देवी को गिरफ्तार कर लिया गया।

SSB

बिहार की वैशाली पुलिस और सशस्त्र सीमा बल (SSB) की संयुक्त छापेमारी में 24 फरवरी को फरार महिला नक्सली लाल मुन्नी देवी को गिरफ्तार कर लिया गया।

बिहार की वैशाली पुलिस और सशस्त्र सीमा बल (SSB) की संयुक्त छापेमारी में 24 फरवरी को फरार महिला नक्सली लाल मुन्नी देवी को गिरफ्तार कर लिया गया। वह करीब ढाई साल से फरार चल रही था। पूछताछ के बाद उसे पानापुर ओपी पुलिस को सौंप दिया गया। 25 फरवरी को पुलिस ने उसे अदालत में पेश किया। जानकारी के अनुसार, पुलिस को सूचना मिली कि वह वैशाली जिले के भगवानपुर स्थित हरिवंशपुर गांव में अपने घर पर है। इसके बाद छापेमारी कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

SSB
बिहार की वैशाली पुलिस और SSB की संयुक्त छापेमारी में फरार महिला नक्सली को गिरफ्तार कर लिया गया। (सांकेतिक तस्वीर)

नक्सली लाल मुन्नी के खिलाफ पानापुर ओपी में आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज है। सितंबर, 2017 में हार्डकोर नक्सली और जोनल कमांडर रोहित सहनी, उसकी पत्नी भारती, कमलेश भगत और अनिल राम पानापुर ओपी क्षेत्र में अपने साथियों के साथ मीटिंग कर रहे थे। इसकी सूचना पर एएसपी अभियान, एसएसबी (SSB)और स्थानीय पुलिस ने छापेमारी की थी।

इस दौरान एक दर्जन से अधिक नक्सलियों को पुलिस ने दबोच लिया था। लेकिन लाल मुन्नी देवी फरार हो गई थी। वह जोनल कमांडर रोहित सहनी की पत्नी भारती की करीबी है। पुलिस के बयान पर नक्सलियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई थी। बता दें कि बिहार पुलिस लगातार नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। नक्सलियों के धर-पकड़ के लिए छापेमारी की जा रही है।

24 फरवरी को ही राज्य के नवादा जिले के रजौली थाने की पुलिस के साथ सशस्त्र सीमा बल (SSB) ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए एक फरार हार्डकोर नक्सली को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार नक्सली को नाम सुरेश पासवान है। उसकी गिरफ्तारी 24 फरवरी को सिरदला थाना क्षेत्र में खरौंध रेलवे स्टेशन के पास से की गई।

गिरफ्तार नक्लली से रजौली थाने में पूछताछ की जा रही है। नक्सली सुरेश पासवान सिरदला थाना क्षेत्र के हेमजा भारत गांव का रहने वाला है। जानकारी के अनुसार, नक्सली सुरेश पासवान, नक्सली कमांडर प्रद्युम्न शर्मा के लिए स्लीपर सेल के रूप में काम कर रहा था। उससे पूछताछ में नक्सलियों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आने की उम्मीद है।

गिरफ्तार नक्सली 2008 में रजौली थाना क्षेत्र के जमुंदाहा के जंगल में पुलिस टीम के साथ हुई नक्सलियों की भीषण मुठभेड़ में शामिल था। तब वह पुलिस से बचकर भाग निकला था। उक्त घटना की प्राथमिकी में सुरेश को आरोपी बनाया गया था। तब से वह पुलिस को चकमा दे रहा था।

पढ़ें: PLFI के नक्सलियों ने मचाया उत्पात, सड़क निर्माण में लगे वाहन को लगाई आग

यह भी पढ़ें