बिहार: सुरक्षाबलों से हुई मुठभेड़ में था शामिल, नवादा से गिरफ्तार हुआ फरार नक्सली

बिहार (Bihar) के नवादा जिले से पुलिस (Police) और एसटीएफ (STF) ने एक हार्डकोर नक्सली (Naxali) को गिरफ्तार कर लिया। जिले के नक्सल प्रभावित हरदिया पंचायत के भानेखाप गांव में 26 मई की देर रात पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम ने छापेमारी कर हार्डकोर नक्सली मंसूर आलम को गिरफ्तार कर लिया।

Naxali

पुलिस और एसटीएफ की टीम ने 3 साल से फरार नक्सली को दबोच लिया।

बिहार (Bihar) के नवादा जिले से पुलिस (Police) और एसटीएफ (STF) ने एक हार्डकोर नक्सली (Naxali) को गिरफ्तार कर लिया। जिले के नक्सल प्रभावित हरदिया पंचायत के भानेखाप गांव में 26 मई की देर रात पुलिस और एसटीएफ की संयुक्त टीम ने छापेमारी कर हार्डकोर नक्सली मंसूर आलम को गिरफ्तार कर लिया। वह सुरक्षाबलों के साथ हुई नक्सली मुठभेड़ में शामिल था और 3 सालों से फरार चल रहा था। मंसूर आलम उसी गांव का रहने वाला है। पूछताछ के बाद उसे 27 मई को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

एएसपी अभियान कुमार आलोक के निर्देश पर यह र्कारवाई की गई। थानाध्यक्ष सुजय विद्यार्थी के मुताबिक, सूचना मिली थी कि एसटीएफ (STF) के जवानों के साथ मुठभेड़ में शामिल नक्सली (Naxali) मंसूर अपने गांव आया हुआ है। सूचना के आलोक में एएसपी अभियान के निर्देश पर जिला पुलिस बल और एसटीएफ के चिता के जवानों के साथ एक टीम बनाकर भानेखाप गांव में छापेमारी की गई।

25 CRPF जवानों की हत्या में था शामिल, 8 लाख के इनामी नक्सली कमांडर ने किया सरेंडर

दरअसल, घटना 21 जुलाई, 2017 की है। सुबह पुलिस को सूचना मिली थी की हार्डकोर नक्सली (Naxali) प्रद्युमन शर्मा अपने नक्सली दस्ते के साथ भानेखाप जंगल से सटे भरवा पहाड़ी की ऊंची चोटियों पर आया हुआ है। उक्त सूचना के आलोक में एएसपी अभियान के नेतृत्व में एसटीएफ का अभियान दल, एसएसबी और जिला पुलिस बल के जवानों के साथ चारों तरफ से सुबह से ही घेराबंदी की गई।

धीरे-धीरे दिन ढल रही थी और टीम पहाड़ी के नजदीक पहुंच रही थी। अपने आप को घिरता देख नक्सलियों (Naxals) ने एसटीएफ जवानों की टुकड़ी पर पहाड़ी की ऊपर चोटियों से गोलियां बरसाना शुरू कर दिया था। दोनों तरफ से लगभग आधे घंटे तक ताबड़तोड़ गोलीबारी होती रही। जिसके बाद नक्सली खुद को घिरता देख झारखंड की सीमा में भाग गए थे।

भारत-चीन सीमा विवाद: लद्दाख में ताजा तनातनी के पीछे ड्रैगन की मंशा क्या है?

ऑपरेशन में शामिल थाने में पदस्थापित एक तत्कालीन एसआइ ने अपने बयान पर नक्सली कमांडर (Naxali Commander) प्रद्युमन शर्मा, गुड्डू शर्मा, राहुल यादव, शत्रुघ्न राम, विपिन शर्मा, जयराम यादव, किशोरी साव, करीम यादव, मुन्ना रमानी, विनय सिंह, रोहन भोगता, मंसूर आलम, सोनू भुइयां, विनय यादव, पिटू यादव और 30 से 35 अज्ञात नक्सलियों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी।

बता दें कि इस साल 7 नक्सलियों (Naxalites) की गिरफ्तारी हुई है। 24 फरवरी को सिरदला थाना क्षेत्र के हेमजभारत से सुरेश पासवान को गिरफ्तार किया गया था। वहीं, 4 मार्च को रजौली थाना क्षेत्र के मंगोडीह से अवधेश यादव को, 20 मई को मंगोडीह गंगटीया से तुलसी यादव, 21 मई को थाना क्षेत्र के जमुंदाहा से सरपंच सिंह, खड्गधारी सिंह व राजकुमार सिंह को भी गिरफ्तार किया गया था। वहीं, 27 मई को भानेखाप से नक्सली (Naxali) मंसूर आलम को गिरफ्तार किर लिया गया है।

यह भी पढ़ें