Bihar: मुंगेर (Munger) में हथियारों के कारखाने का भंडाफोड़, गोबर गैस प्लांट में चल रहा था गैरकानूनी धंधा

बिहार के नक्सल प्रभावित मुंगेर (Munger) जिले के धरहरा थाना क्षेत्र में पुलिस ने छापेमारी कर तीन अवैध मिनी बंदूक कारखाने का भंडाफोड़ किया।

Munger

बिहार (Bihar) के नक्सल प्रभावित मुंगेर (Munger) जिले के धरहरा थाना क्षेत्र में पुलिस ने छापेमारी कर तीन अवैध मिनी बंदूक कारखाने का भंडाफोड़ किया।

बिहार (Bihar) के नक्सल प्रभावित मुंगेर (Munger) जिले के धरहरा थाना क्षेत्र में पुलिस ने छापेमारी कर तीन अवैध मिनी बंदूक कारखाने का भंडाफोड़ किया। छापेमारी में 13 पिस्तौल और 15 कारतूस सहित बड़ी मात्रा में हथियार बनाने वाले उपकरण बरामद किए गए। बताया जा रहा है कि अवैध हथियार बनाने का यह कारखाना एक गोबर गैस प्लांट में चल रहा था।

Munger
बिहार के नक्सल प्रभावित मुंगेर में अवैध मिनी बंदूक कारखाने का भंडाफोड़।

गोबर गैस प्लांट के भीतर बनाए गए तहखाने में हथियार बनाने के लिए प्रति हथियार कमीशन भी दिया जाता था। फिलहाल इस मामले में पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। मुंगेर (Munger) के पुलिस उपमहानिरीक्षक मनु महाराज के मुताबिक, गुप्त सूचना मिली थी कि धरहरा गांव में अवैध तरीके से मिनी बंदूक कारखाने चल रहे हैं। इसी आधार पर एक टीम गठित कर गांव में छापेमारी की गई, जहां तीन मिनी बंदूक कारखानों का भंडाफोड़ किया गया। पुलिस ने मौके से एक पूर्णनिर्मित तथा 12 अर्द्धनिर्मित पिस्तौल, 15 कारतूस और तीन वेस मशीन सहित बड़ी मात्रा में हथियार बनाने में प्रयुक्त होने वाले उपकरण बरामद किए।

मुंगेर (Munger) पुलिस उपमहानिरीक्षक के अनुसार, सभी कारखाने गोबर गैस प्लांट के तहखाने में चलाए जा रहे थे। इस सिलसिले में उक्त गोबर गैस प्लांट के मालिक गुलाब सिंह और गोपाल के अलावा हथियार कारीगर मोहम्मद राजू, फैयाज और मोहम्मद असलम को गिरफ्तार किया गया। पुलिस उपमहानिरीक्षक के मुताबिक, गुलाब सिंह उक्त गोबर गैस प्लांट के भीतर बनाए गए तहखाने को उपलब्ध कराने के लिए प्रति हथियार कमीशन लेता था। गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है। आरोपियों ने स्वीकार किया है कि उक्त हथियारों की अपराधियों और नक्सलियों को आपूर्ति की जानी थी।

फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। बता दें कि इससे पहले भी मुंगेर (Munger) जिले में ही हथियार की बड़ी तस्करी पकड़ी गई थी। कासिमबाजार थाना क्षेत्र में पुलिस ने छापेमारी कर बड़ी मात्रा में हथियार और हथियार बनाने के सामान भी बरामद किए थे। साथ ही 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इसमें बड़ी बात सामने आई थी कि भारी संख्या में बरामद हथियारों की यह आपूर्ति नक्सलियों को की जानी थी। बरामद हथियारों की खेप में एक ‘बेवली स्कट’ राइफल भी था।

पढ़ें: संविधान दिवस पर जवानों को पूर्व महिला नक्सली ने दिलाई थी शपथ, जानिए कौन है जुंको कवासी…

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App