हत्या और सुरक्षाबलों पर हमले का आरोपी, कुख्यात नक्सली सिद्धू कोड़ा का करीबी चढ़ा पुलिस के हत्थे

बिहार के जमुई जिले के खैरा इलाके से एसएसबी ने कुख्यात नक्सली कमांडर सिद्धू कोड़ा (Sidhu Koda) के सहयोगी बाबूलाल टुडू को गिरफ्तार कर लिया।

Sidhu Koda

बिहार के जमुई जिले के खैरा इलाके से एसएसबी ने कुख्यात नक्सली कमांडर सिद्धू कोड़ा (Sidhu Koda) के सहयोगी बाबूलाल टुडू को गिरफ्तार कर लिया। वह खैरा के हरणी पंचायत के अहराडीह गांव का रहने वाला है। सिद्धू कोड़ा की मौत के बाद वह पटना में छिपकर रह रहा था, लेकिन लॉकडाउन के बाद गांव लौट आया था।

Sidhu Koda
गिरफ्तार नक्सली बाबूलाल टुडू।

एएसपी अभियान सुधांशु कुमार के मुताबिक, बाबूलाल के खिलाफ खैरा और चकाई थाने में कई गंभीर मामले दर्ज हैं। वह खलारी के रीतलाल यादव हत्याकांड के अलावा पंचभूर और कोलजी घाट जंगल में गश्ती के दौरान सीआरपीएफ (CRPF) के साथ हुई मुठभेड़ का आरोपी है। सिद्धू कोड़ा (Sidhu Koda) की मौत के बाद वह पटना में छिपकर रह रहा था।

बताया जाता है कि वह पटना के एक होटल में मजदूरी करता था। इसी बीच कोरोना महामारी के मद्देनजर देशभर में हुए लॉकडाउन के बाद होटल बंद होने से बाबूलाल अपने घर लौट आया था। नक्सलियों (Naxalites) के प्लाटून कमांडर और दुर्दांत नक्सली सिद्धू कोड़ा (Sidhu Koda) की मौत के बाद उसके स्थान पर नए प्लाटून कमांडर की जगह भरने को लेकर नक्सली संगठन उलझन में पड़ा है।

कोरोना वायरस: लॉकडाउन बढ़ाए जाने की खबर! जानें क्या कहा केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने…

यही कारण है कि 11 लाख के इनामी नक्सली सिद्धू कोड़ा (Sidhu Koda) की मौत के बाद अब तक नए कमांडर के पद को नहीं भरा जा सका है। इलाके में सुरक्षा बलों द्वारा लगातार चलाए जा रहे अभियान के कारण अब तक नक्सल संगठन की बैठक नहीं हो पा रही है। यही वजह है कि संगठन सिद्धू की जगह नए कमांडर का चयन अब तक नहीं कर पाया है।

बता दें कि झारखंड के दुमका से गिरफ्तार हुए 11 लाख के इनामी नक्सली (Naxalite) कमांडर सिद्धू कोड़ा (Sidhu Koda) की मौत हो गई थी। सिद्धू को पटना एसटीएफ ने दुमका पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया था। जिसके बाद सिद्धू कोड़ा को लेकर एसटीएफ की टीम जमुई आई और वहां उसके साथ उसकी निशानदेही पर जंगलों में छापेमारी किया। छापेमारी के दौरान सिद्धू कोड़ा ने पेट और छाती में दर्द की शिकायत की जिसके बाद उसे पुलिस ने हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था।

यह भी पढ़ें