Article 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर में थोक के भाव खुलेंगे मल्टीप्लेक्स, पीएम मोदी ने की थी अपील

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राष्ट्र के नाम संबोधन दिया था। इस संबोधन में पीएम ने फिल्म इंडस्ट्री से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में फिल्मों की शूटिंग और निवेश के लिए आग्रह किया था। उनके इस संबोधन के बाद कार्निवल सिनेमा ने घोषणा की है कि यह मल्टीप्लेक्स चेन जम्मू और कश्मीर में 30 स्क्रीन्स खोलने जा रही है। इसके अलावा लद्दाख में भी 5 स्क्रीन्स खोली जाएंगी। पीएम मोदी ने हिंदी, तेलुगू और तमिल फिल्म इंडस्ट्री और इससे जुड़े लोगों से कहा था कि उन्हें जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में निवेश के बारे में सोचना चाहिए। साथ ही फिल्म की शूटिंग्स से लेकर, थियेटर्स और अन्य साधनों की स्थापना के बारे में सोचाना चाहिए।

60 के दशक में कश्मीर बॉलीवुड फिल्मों के लिए प्राइम हुआ करता था। साल 1961 में आई फिल्म ‘जंगली’ की शूटिंग श्रीनगर के बर्फीले पहाड़ों में की गई थी। इस फिल्म में शम्मी कपूर पर फिल्माया गया गाना ‘चाहे कोई मुझे जंगली कहे..’ ने जबरदस्त लोकप्रियता हासिल की थी। इस गाने की कामयाबी के साथ ही टूरिस्ट्स की पहली पसंद बन गया था। इसके बाद कई बॉलीवुड फिल्मों में कश्मीर की खूबसूरती को फिल्माया गया। पर, वक्त के साथ कश्मीर की स्थिति बदलती चली गई और बॉलीवुड इससे दूर होता चला गया।

Article 370 पर रूस भी आया भारत के साथ, अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान

इन सबका असर फिल्मों में भी नजर आने लगा। 90 के दशक में कश्मीर में बढ़ते तनाव को फिल्मों में दिखाया जाने लगा। फिल्म ‘मिशन कश्मीर’ से लेकर ‘तहान’, ‘फना’, ‘रोजा’, ‘सिकंदर’ और ‘हैदर’ जैसी तमाम ऐसी फिल्में बनीं जो कश्मीर में फैली त्रासदी को दिखाने की कोशिश करती नजर आईं। हाल के वर्षों में कश्मीर की वादियों में कई बेहतरीन फिल्मों की शूटिंग हुई है जिनमें ‘राजी’, ‘हाइवे’, ‘थ्री इडियट्स’, ‘जब तक है जान’, ‘ये जवानी है दीवानी’, ‘हैदर’ जैसी कई फिल्मों का नाम शामिल है।

पढ़ें: पाकिस्तान को नहीं मिला चीन का साथ, तालिबान ने भी सुनाई खरी-खोटी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here