20 साल की उम्र में देश के लिए शहीद हो गए थे शंभूराम, 1965 की जंग में दुश्मनों को दिया था मुंहतोड़ जवाब

शंभूराम (Shambhuram) की बहादुरी के किस्से उनके इलाके के लोग आज भी एक दूसरे को सुनाते हैं। उन्होंने इस युद्ध में दुश्मनों को धूल चटाई थी।

Shambhuram

फाइल फोटो

Indian Army: शंभूराम (Shambhuram) की बहादुरी के किस्से उनके इलाके के लोग आज भी एक दूसरे को सुनाते हैं। उन्होंने इस युद्ध में पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को ध्वस्त करने में अहम भूमिका निभाई थी।

भारत और पाकिस्तान के बीच 1965 में इंडियन आर्मी का पराक्रम देखने लायक था। इस युद्ध को दुनिया के चुनिंदा सबसे बड़े टैंक युद्धों में गिना जाता है। युद्ध में हर जवान की भूमिका अहम होती है, लेकिन कुछ जवान ऐसे होते हैं जो अपनी अलग ही छाप छोड़कर जंग के मैदान में शहीद हो जाते हैं।

ऐसे ही एक जवान राजस्थान के पाली जिले में स्थित कला पिपल की धनि के शंभूराम भी थे। उनकी बहादुरी के किस्से उनके इलाके के लोग आज भी एक दूसरे को सुनाते हैं। उन्होंने इस युद्ध में पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को ध्वस्त करने में अहम भूमिका निभाई थी।

छत्तीसगढ़: खोखली नक्सली विचारधारा से तंग आकर बीजापुर में नक्सली दंपति ने किया सरेंडर, दोनों के खिलाफ कई मामले दर्ज

22 जुलाई 1945 को जन्मे शंभूराम (Shambhuram) सिर्फ 18 साल की उम्र में ही इंडियन एयरफोर्स में शामिल हो गए थे। 1965 के भारत-पाक युद्ध में वे जामनगर (जामनगर) में दुश्मन के हमले में शहीद हो गए थे। उन्हें दुश्मनों ने घेर लिया था और फिर उन पर हमला किया गया था।

जंग के मैदान में विपरीत परिस्थितियां आने के बावजूद वह कतई पीछे नहीं हटे। हालांकि उनका पार्थिव शरीर उनके परिजनों को कभी नहीं मिला। ऐसा क्यों है यह भी अबतक साफ नहीं हो सका है।

हालांकि शंभूराम के शहीद होने का प्रमाण पत्र 19 सितंबर 1999 को एयर चीफ मार्शल दे चुके हैं, जो आज भी परिजनों के पास है। 20 साल की उम्र में देश के लिए शहीद होने वाले इस जवान के योगदान को हमेशा ही याद किया जाता रहेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें