Naxal attack in Maharashtra: 16 जवानों की हत्या के लिए 30 किलो आईईडी, पढ़िए नक्सलियों ने कैसे रची हमले की साजिश

naxal attack, gadchiroli naxal attack, maharashtra naxal attack, naxal attack, naxal, sirf sach, sirfsach.in

Naxal attack in Maharashtra: महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुए नक्सली हमले की शुरूआती जांच के बाद बड़ी बात सामने आई है। एंटी नक्सल आपरेशन (एएनओ) के अधिकारियों के अनुसार, इस हमले की साजिश नक्सलियों की ज्वाइंट कमिटी ने रची थी। इसमें तीन राज्यों की नक्सल कमिटियां शामिल थीं। छत्तीगसढ़, तेलंगाना और महाराष्ट्र में सक्रिय नक्सलियों ने रणनीति बनाई और इस वारदात को अंजाम दिया। जांच में यह भी पता चला कि जिस आईईडी की मदद से नक्‍सलियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया था उसमें 30 किलोग्राम औद्योगिक श्रेणी का विस्‍फोटक और जिलेटिन की छड़ों का इस्‍तेमाल किया गया था। इस विस्‍फोटक को एक पुलिया के नीचे लगाया गया था।

जिसकी चपेट में क्विक रिस्पॉन्स टीम (क्यूआरटी) का वाहन आ गया और 15 जवान शहीद हो गए। पुलिस का कहना है कि पुलिया के नीचे लगाए गए इस विस्‍फोटक को एक तार के जरिए ट्रिगर से जोड़ा गया था। जब क्‍यूआरटी का वाहन यहां से गुजरा उसी समय बटन दबाकर विस्‍फोट किया गया। पिछले कुछ सालों से फोर्स और स्थानीय पुलिस द्वारा लगातार चलाए जा रहे एंटी नक्सल ऑपरेशन्स की वजह से नक्सली बैकफुट पर थे। उन्हें अपने नापाक इरादों को अंजाम देने में सफलता नहीं मिल पा रही थी। इसलिए लोकसभा चुनावों के दौरान अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए उन्होंने तो पहले चुनाव का बहिष्कार करने का ऐलान किया।

यह भी पढ़ें: मारा गया बीजेपी विधायक भीमा मंडावी पर हमले का मास्टरमाइंड

पर, जब उन्होंने देखा की नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में भी प्रशासन की मुस्तैदी की वजह से लोग बिना डरे बढ़-चढ़ कर मतदान में हिस्सा ले रहे हैं तो उन्होंने हिंसक घटनाओं को अंजाम देना शुरू किया। इसमें बड़ा हमला था छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में भाजपा विधायक भीमा मंडावी के चुनावी काफिले पर। 9 अप्रैल को भाजपा विधायक भीमा मंडावी चुनाव प्रचार कर लौट रहे थे। रास्ते में उनके काफिले पर नक्सलियों ने आईईडी ब्लास्ट किया। इस हमले में विधायक और सुरक्षा कर्मियों सहित कुल  लोगों की जान गई थी। उसके बाद भी छत्तीसगढ़ में छोटी-छोटी नक्सली वारदातें होती रहीं।

पर, उसके बाद बड़ी घटना थी, छत्तीसगढ़ के कांकेर की सीमा से सटे महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में। जहां नक्सलियों ने 1 मई को आइईडी विस्फोट कर जवानों का वाहन उड़ा दिया। इसमें 15 जवान शहीद हो गए और वाहन चालक की मौत हो गई। हालांकि, खुफिया विभाग ने पहले आशंका जताई थी कि लोकसभा चुनाव के दौरान नक्सली गढ़चिरौली में बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। उसके बाद मुस्तैदी बढ़ा दी गई थी। सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशंस तेज कर दिए थे और लगातार नक्सलियों की धर-पकड़ हो रही थी। यह अलर्ट उस समय जारी हुआ था, जब छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में भाजपा विधायक भीमा मंडावी की नक्सली ब्लास्ट में हत्या कर दी गई थी।

यह भी पढ़ें: 30 पर भारी हैं यह 3 महिलाएं, कांपते हैं नक्सली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here