Maharashtra Naxal Attack

नक्सलियों से लड़ने के लिए आधुनिक हथियारों और तकनीक के लिए महाराष्ट्र सरकार ने दी बड़े बजट को मंजूरी। अब नक्सलियों की खैर नहीं।

एंटी नक्सल ऑपरेशंन्स को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए प्रदेश सरकार ने सुरक्षाबलों को आधुनिक हथियारों और नई तकनीकि के वाहनों से लैस करने की तैयारी कर रही है।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में सी-60 कमांडो और नक्सलियों के बीच एनकाउंटर हुआ है। जानकारी के अनुसार, सी-60 कमांडोज ने नक्सलियों को घेर लिया था। लेकिन नक्सली किसी तरह जंगल मौके से भागने में कामयाब हो गए।

Maharashtra Naxal Attack: गढ़चिरौली के दादापुर गांव में हमले से पहले नक्सलियों ने 27 वाहनों को आग के हवाले किया था। वाहनों को आग में झोंकने के पीछे नक्सलियों की एक साजिश थी।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में 1 मई को हुए नक्सली हमले में शहीद जवानों की कहानियां दिल को झकझोर देने वाली हैं। इस हमले में 15 पुलिसकर्मी और एक ड्राइवर शहीद हो गए थे। इन्हीं शहीदों में शाहू मदावी और तोमेश्वर सिंघत भी शामिल थे। शाहू मदावी पुलिस के जवान थे जबकि तोमेश्वर सिंघत उस वाहन के ड्राइवर थे जिस पर नक्सलियों ने हमला किया था।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में 1 मई को हुए नक्सली हमले में शहीद 16 जवानों में बीड जिले के तौसिफ शेख भी हैं। तौसिफ ने हमले से कुछ देर पहले ही अपनी मां से फोन पर बात की थी।

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुए नक्सली हमले की शुरूआती जांच के बाद बड़ी बात सामने आई है। एंटी नक्सल आपरेशन (एएनओ) के अधिकारियों के अनुसार, इस हमले की साजिश नक्सलियों की ज्वाइंट कमिटी ने रची थी।

महाराष्‍ट्र के गढ़चिरौली में नक्‍सलियों ने बड़ा हमला किया है। नक्सलियों ने पुलिस वाहन को निशाना बनाकर एक IED ब्‍लास्‍ट किया। इस हमले में 15 जवान और एक ड्राइवर शहीद हो गए हैं।

यह भी पढ़ें