Coronavirus Impact: दुनियाभर में खाने की वस्तुओं के दामों में दर्ज की गई गिरावट

एफएओ खाद्य वस्तुओं की अंतर्राष्ट्रीय कीमतों पर नजर रखता है। एफएओ का कहना है कि लगातार तीसरी बार कीमतों में गिरावट आई है। क्योंकि कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण आर्थिक और तार्किक कारणों से वस्तुओं की मांग में भी भारी कमी आई है। विश्व भर में खाद्य वस्तुओं की कीमत अप्रैल में औसतन 165.5 अंक रही जो पिछले महीने की तुलना में 3.4 फीसदी कम और अप्रैल 2019 की तुलना में तीन फीसदी नीचे है।

Coronavirus

कोविड–19 (Coronavirus) के कारण विश्व भर में हुए लॉकडाउन से खाद्य पदार्थों की कीमतों में भारी गिरावट आई है। होटल और रेस्तरां बंद होने के कारण मांस‚ मक्खन और दूध पाउडर की कीमतें में चार फीसदी तक की गिरावट दर्ज हुई है जबकि पेट्रोल की मांग कम होने से एथलॉन की मांग भी घटी है जिसके कारण गन्ने से चीनी का उत्पादन ज्यादा हुआ। नतीजतन विश्वभर में चीनी की कीमत में 14 फीसदी से अधिक की गिरावट हो गई है। इस दौरान शाकाहार बढ़ने से गेहूं और चावल की कीमतें बढ़ी हैं।

खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) ने खाद्य मूल्य सूचकांक जारी किया है। एफएओ खाद्य वस्तुओं की अंतर्राष्ट्रीय कीमतों पर नजर रखता है। एफएओ का कहना है कि लगातार तीसरी बार कीमतों में गिरावट आई है। क्योंकि कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण आर्थिक और तार्किक कारणों से वस्तुओं की मांग में भी भारी कमी आई है। विश्व भर में खाद्य वस्तुओं की कीमत अप्रैल में औसतन 165.5 अंक रही जो पिछले महीने की तुलना में 3.4 फीसदी कम और अप्रैल 2019 की तुलना में तीन फीसदी नीचे है।

 

यह भी पढ़ें