UNHRC

जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान की कोशिश एक बार फिर से नाकाम हो गई है। अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को एक बार फिर निराशा हाथ लगी है।

UNHRC में कहा गया कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने तालिबान, हक्कानी नेटवर्क, लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मुहम्मद को आतंकवादी संगठन घोषित कर रखा है। लेकिन पाकिस्तान सरकार की शह में ये सभी संगठन पोषित हो रहे हैं।

अपनी पुरानी बात दोहराते हुए भारत ने कहा कि कश्मीर हमारा आंतरिक मसला है और पाकिस्तान झूठ की फैक्ट्री चला रहा है। विदेश मंत्रालय की सेक्रेटरी (ईस्ट) विजय ठाकुर सिंह ने जिनेवा में UNHRC में जम्मू-कश्मीर पर पाकिस्तान के झूठ को बेनकाब कर दिया।

एक बार फिर पाकिस्तान की अपील पर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार काउंसिल में जम्मू-कश्मीर पर चर्चा होगी। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी की अगुवाई में पाकिस्तान का एक पैनल इस मुद्दे को उठाएगा।

यह भी पढ़ें