Chhattisgarh: अपने ही पूर्व साथी की हत्या का प्लान बना रहे थे नक्सली, जान बचाकर पहुंचा थाने

नक्सली (Naxalites) किसी के सगे नहीं होते। यहां तक कि वे अपने साथियों के भी अपने नहीं होते। इसका उदाहरण देखने को मिला जब छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बीजापुर जिले में नक्सलियों (Naxals) ने अपने ही साथी का अपहरण कर लिया।

Naxalites

सांकेतिक तस्वीर।

आत्मसमर्पित रामकृष्ण को नक्सली (Naxalites) अगवा कर अपने जंगली ठिकाने पर लेकर पहुंचे और उससे पूछताछ कर रहे थे। लेकिन नक्सलियों  को चकमा देकर वह किसी तरह बच निकला।

नक्सली (Naxalites) किसी के सगे नहीं होते। यहां तक कि वे अपने साथियों के भी अपने नहीं होते। अपने फायदे के लिए वे मासूम लोगों का इस्तेमाल करते हैं। इसका उदाहरण देखने को मिला जब छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बीजापुर जिले में नक्सलियों (Naxals) ने अपने ही साथी का अपहरण कर लिया।

हालांकि, अगवा किया गया पूर्व नक्सली किसी तरह अपनी जान बचाकर नक्सलियों के चंगुल से भाग निकला है। दरअसल, बीते 6 जून को नक्सलियों द्वारा बीजापुर जिले के बासागुड़ा इलाके से नक्सलियों ने आत्मसमर्पित अपने ही साथी रामकृष्ण मरकाम को अगवा कर लिया था।

Chhattisgarh: सुकमा में 2 लाख के इनामी सहित 8 नक्सलियों ने किया सरेंडर

इसके बाद रामकृष्ण को नक्सली अपने जंगली ठिकाने तक लेकर पहुंचे और उससे पूछताछ कर रहे थे। लेकिन नक्सलियों (Naxalites) को चकमा देकर आत्मसमर्पित नक्सली रामकृष्ण मरकाम किसी तरह वापस लौट आया।

जानकारी के अनुसार, आत्मसमर्पित रामकृष्ण मरकाम अगवा होने के बाद से ही नक्सलियों को चकमा देने की रणनीति बना रहा था। बीते 9 जून की रात नक्सलियों के पहरेदारों को चकमा देकर रामकृष्ण उनके ठिकाने से भाग निकला। वह पूरी रात जंगली रास्तों से चलते हुए जगरगुंडा पहुंचा।

जम्मू कश्मीर: शोपियां में आतंकियों ने फिर की नापाक हरकत, जवानों को निशाना बनाकर की फायरिंग

मिली जानकारी के मुताबिक, नक्सलियों ने अपहरण के बाद रामकृष्ण को मंडीमरका गांव में रखा था, जहां रामकृष्ण को मौत की सजा देने की बात नक्सलियों द्वारा कही जा रही थी। इधर, 9 जून की देर रात रामकृष्ण जान बचाकर किसी तरह जंगलों का सहारा लेते हुए निकला और पूरी रात चलकर 10 जून की सुबह 11 बजे वह जगरगुंडा थाने पहुंचा। यहां रामकृष्ण ने खुद का परिचय दिया और जवानों को आपबीती बताई।

ये भी देखें-

पूरे मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई, जिसके बाद अधिकारियों के निर्देश पर रामकृष्ण से पूछताछ की गई और पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली गई। नक्सलियों के चंगुल से भागकर वापस लौटा रामकृष्ण पूरी तरह स्वस्थ बताया गया है। उसे जगरगुंडा थाने में ही रखा गया है। एसपी केएल ध्रुव ने इस बात की पुष्टि की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें