छत्तीसगढ़: सुकमा में एक-एक लाख के 2 इनामी सहित 3 नक्सलियों ने किया सरेंडर, संगठन की खोखली विचारधारा से आ गए थे तंग

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सुकमा (Sukma) जिले में एक-एक लाख के दो इनामी सहित तीन नक्सलियों ने सरेंडर (Naxalites Surrender) कर दिया है।

Naxali Commander

सांकेतिक तस्वीर।

नक्सलियों की खोखली विचारधारा और उनके शोषण से तंग आकर प्रतिबंधित नक्सली संगठन से जुड़े 3 नक्सली सदस्यों ने आत्मसमर्पण (Naxalites Surrender) किया है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के सुकमा (Sukma) जिले में एक-एक लाख के दो इनामी सहित तीन नक्सलियों ने सरेंडर (Naxalites Surrender) कर दिया है। इन नक्सलियों ने सीआरपीएफ के डीआईजी योज्ञान सिंह और एसपी सुनील शर्मा के सामने आत्मसमर्पण किया।

तीनों नक्सलियों ने संगठन की खोखली विचारधारा और प्रताड़ना से तंग आकर समाज के मुख्यधारा में शामिल हुए हैं। साथ ही ये तीनों सरकार की पुनर्वास नीति और जिला पुलिस द्वारा चलाए जा रहे ‘पुना नर्कोम’ अभियान (नई सुबह की ओर) से प्रभावित भी थे।

छत्तीसगढ़: बस्तर में कमजोर हुआ नक्सलवाद, इलाके में पर्यटन स्थलों के विकास का बन रहा प्लान

सरेंडर करने वाले नक्सलियों (Naxalites Surrender) में सीतानदी एरिया कमेटी का एलओएस सदस्य रमेश मड़कम उर्फ जीवन, दुलेड़ आरपीसी का सीएनएम कमांडर कवासी जोगा और जोनागुड़ा मिलिशिया प्लाटून सदस्य दुधी भीमा शामिल हैं। इनमें जीवन और कवासी जोगा पर एक-एक लाख का इनाम घोषित था।

जिले के एसपी सुनील शर्मा के मुताबिक, नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत शासन की पुनर्वास नीति और जिला पुलिस द्वारा चलाए जा रहे ‘पुना नर्कोम अभियान’ के प्रचार-प्रसार से प्रभावित होकर और नक्सलियों की अमानवीय, आधारहीन विचारधारा और उनके शोषण, अत्याचार, बाहरी नक्सलियों द्वारा भेदभाव करने, स्थानीय आदिवासियों पर होने वाले हिंसा से तंग आकर प्रतिबंधित नक्सली संगठन से जुड़े 3 नक्सली सदस्यों ने आत्मसमर्पण (Naxalites Surrender) किया है।

ये भी देखें-

आत्मसमर्पित नक्सलियों को सरकार की राहत और पुनर्वास नीति के तहत दस-दस हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि दी गई। साथ ही सरेंडर करने वाले तीनों नक्सलियों को सरकार की पुनर्वास नीति के तहत सभी सुविधाएं दी जाएंगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें