Unnao Case: खेत में दुपट्टे से बंधी मिलीं 3 नाबालिग लड़कियां, 2 की मौत;पोस्टमार्टम रिपोर्ट से शरीर में जहरीला पदार्थ मिलने की पुष्टि

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के उन्नाव (Unnao) में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में 17 फरवरी देर शाम एक खेत में तीन नाबालिग दलित लड़कियां बेहोशी की हालत में दुपट्टे से बंधी पड़ी मिलीं।

Unnao

उन्नाव (Unnao) के बबुरहा गांव की कोमल (16), काजल (13) और रोशनी (17) 17 फरवरी को दोपहर के बाद मवेशियों के लिए चारा लेने खेत में गई थीं।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के उन्नाव (Unnao) में दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव में 17 फरवरी देर शाम एक खेत में तीन नाबालिग दलित लड़कियां बेहोशी की हालत में दुपट्टे से बंधी पड़ी मिलीं। इनमें दो की मौत हो चुकी थी, जबकि एक को सीएचसी से जिला अस्पताल और उसके बाद कानपुर रेफर किया गया है।

मौके पर पहुंचे एसपी ने बताया कि जांच के बाद ही मौत की वजह स्पष्ट हो सकेगी। पुलिस ने पूरे खेत को घेर दिया है। फॉरेंसिक की टीम सबूत जुटाकर ले गई है, जिससे की घटना के बारे में पता चल सके। सीएचसी ईएमओ डॉ. विमल आर्या ने जहरीला पदार्थ निगलने से मौत की आशंका जताई। इस बीच दोनों मृतकों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है।

झारखंड: IED के जरिए पुलिस को नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे नक्सली, बनाई गई ये योजना

रिपोर्ट के मुताबिक, शरीर में जहरीले पदार्थ की मौजूदगी मिली है। हालांकि, अभी कहना मुश्किल कि आखिर ये जहरीला पदार्थ किस प्रकार का है। उन्नाव (Unnao) के बबुरहा गांव के संतोष वर्मा की बेटी कोमल (16), सूरज पाल वर्मा की पुत्री काजल (13) और सूरज बली की बेटी रोशनी (17) दोपहर के बाद मवेशियों के लिए चारा लेने खेत में गई थीं। देर शाम तक जब तीनों घर नहीं पहुंची तो परिवार के लोगों ने उनकी खोजबीन शुरू कर दी।

सूरजपाल के खेत में पहुंचे तो तीनों अचेत पड़ी थीं। एक ही दुपट्टे से तीनों के हाथ बंधे थे। कोमल और काजल की मौत हो चुकी थी। रोशनी की सांसें चल रही थीं। हालांकि, कानपुर के एक अस्पताल में भर्ती रोशनी की हालत अभी भी नाजुक है। उसके इलाज का सारा खर्च सरकार ने उठाने का फैसला किया है।

ये भी देखें-

दोनों मृतकों के शरीर में मिले जहर को लैब में जांच के लिए भेजा जा रहा है। उन्नाव पुलिस (Unnao Police) जहर के प्रकार के बारे में पता करने की कोशिश कर रही है। एसओजी (SOG) की 10 टीमों का गठन किया गया है। इसके साथ ही लड़कियों के परिजनों और ग्रामीणों से पूछताछ की जा रही है। लड़कियों के परिजनों ने सीबीआई (CBI) जांच की मांग की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App