फिर आतंकी हाफिज सईद का ढाल बना पाकिस्तान, यूएन से दिलाई बैंक खातों के इस्तेमाल की अनुमति

वैश्विक आतंकी और लश्कर-ए-तैयबा के चीफ हाफिज सईद को राहत दिलाने के लिए पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र के सामने गुहार लगाई थी। पाकिस्तान ने 15 अगस्त को यूएनएससी (UNSC) में एक पत्र दायर कर समिति से अपील की थी कि आतंकी हाफिज सईद, हाजी मुहम्मद अशरफ और जफर इकबाल को अपने खर्चों के लिए उनके बैंक खातों के इस्तेमाल की अनुमति दी जाए। इस पर संयुक्त राष्ट्र की समिति ने रोजमर्रा के खर्चों के लिए हाफिज सईद को अपने खाते का इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी है।

Pakistan, hafiz saeed, lashkar e taiba head, terrorist, united nations, hafiz saeed bank account, laskhar e taiba, hafiz saeed can use bank account, pakistan letter to un, sirf sach, sirfsach.in, हाफिज सईद, पाकिस्तान, संयुक्त राष्ट्र, सिर्फ सच
संयुक्त राष्ट्र ने हाफिज सईद को अपने खाते का इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समिति को लिखे पत्र में पाकिस्तान ने कहा कि हाफिज सईद चार सदस्यों के परिवार का अकेला गुजारा चलाता है, इसलिए उसे बैंक खातों का इस्तेमाल करने दिया जाए। आतंकी हाफिज सईद मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमलों का मास्टर माइंड है और उसे वैश्विक आतंकवादी घोषित किया जा चुका है। संयुक्त राष्ट्र की समिति ने अपने पत्र में कहा कि हाफिज सईद के बुनियादी खर्चों के लिए पाकिस्तान के अनुरोध पर कोई आपत्ति नहीं होने पर चेयर ने अपील को मंजूरी दे दी है। पाकिस्तानी सरकार द्वारा UNSC प्रस्ताव का अनुपालन करते हुए हाफिज सईद के बैंक खाते फ्रीज कर दिए गए थे।

इससे पहले इस महीने की शुरुआत में भारत ने गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) कानून (UAPA) बिल के तहत मौलाना मसूद अजहर, हाफिज सईद के अलावा जकी उर रहमान लखवी और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम जैसे 4 बड़े आतंकियों को वांटेड आतंकी घोषित किया था। भारत के इस फैसले का अमेरिका ने भी समर्थन किया। पाकिस्तान ने यह कदम तब उठाया है जब वह सारी दुनिया में ढिढोरा पीट रहा है कि वह आतंकवाद के खिलाफ कड़े कदम उठा रहा है।

यह भी पढ़ें: शिक्षारत्न ‘विद्यासागर’ ने विधवाओं को दिया नया जीवन, पूरे समाज से मोल ली थी बगावत

नक्सलग्रस्त कुटरु गांव को मिला राष्ट्रीय बाल मित्र पंचायत पुरस्कार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here