Hafiz Saeed

मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद (Hafiz Saeed) को टेरर फंडिंग मामले में पाकिस्तान की अदालत ने 12 फरवरी को पांच साल की सजा सुनाई है।

टेरर फंडिंग के मामले में मुंबई हमले के मास्‍टर माइंड हाफ‍िज सईद (Hafiz Saeed) के खिलाफ लाहौर की आतंक निरोधी अदालत में आरोप तय हो गए हैं।

पाकिस्तान ने 15 अगस्त को यूएनएससी में एक पत्र दायर कर समिति से अपील की थी कि आतंकी हाफिज सईद, हाजी मुहम्मद अशरफ और जफर इकबाल को अपने खर्चों के लिए उनके बैंक खातों के इस्तेमाल की अनुमति दी जाए।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय के दबाव में पाकिस्तानी अधिकारियों ने जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा के ठिकानों और टेरर फंडिंग के मामलों की जांच शुरू की है। इसी साल मार्च में हाफिज सईद के प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा के रावलपिंडी स्थित अस्पताल और मदरसे को सीज कर दिया गया था।

टेरर फंडिंग पर रोक लगाने के लिए मामले बड़ी कार्रवाई करते हुए केन्द्र सरकार ने हुर्रियत नेताओं की संपत्ति जब्त करने का फैसला किया है। सरकार के आदेश से 11 अलगाववादी नेताओं की संपत्ति जब्त होगी।

लश्कर सरगना एवं मुम्बई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड हाफ़िज सईद के पैसों से जुड़ा हुआ गुरुग्राम में बंगला कुर्क कर दिया गया है। प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के अनुसार गुरुग्राम में यह विला हाफ़िज सईद के फाइनेंसर कश्मीरी व्यापारी जहुर अहमद शाह वटाली ने खरीदा था।

संयुक्त राष्ट्र ने 26/11 मुंबई आतंकी हमले के मास्टर-माइंड और दुनिया के मोस्टवांटेड ,जमात उद दावा के मुखिया हाफिज सईद की प्रतिबंधित आतंकियों की सूची से निकालने की याचिका को खारिज कर दिया है।

यह भी पढ़ें