अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया, दो भागने में कामयाब

Anantnag

जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 लगने के बाद घाटी के अलगाववादी नेताओं की नजरबंदी और एलओसी पर सेना की मुश्तैदी के कारण इलाके में छिपे आतंकी बौखला गए हैं। घाटी में आर्टिकल 370 लगने के बाद से आतंकवादी अपने हर मंसूबे में असफल साबित हो रहे हैं। असफलता के इसी बौखलाहट में अब आतंकी मासूम जनता को अपना निशाना बना रहे हैं। रविवार को ही घाटी में आतंकियों ने दो अलग-अलग जगहों पर हमला कर निर्दोष लोगों को अपना निशाना बनाया। पहला हमला सोपोर (Sopor) इलाके में हुआ जहां आतंकियों ने ग्रेनेड हमला कर करीब 20 लोगों को घायल कर दिया तो वहीं अनंतनाग (Anantnag) में आतंकियों ने एक ट्रक ड्राइवर की हत्या कर दी।

Anantnag

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग (Anantnag) इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ में एक आंतकी को मार गिराया गया है, लेकिन इस दौरान दो आतंकी वहां से बच निकलने में कामयाब रहे। गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से अनंतनाग में आतंकी गतिविधियां देखी गई हैं और इसी कड़ी में आतंकियों ने कई बार निर्दोष लोगों को अपना शिकार बनाया है। ये ही आतंकी रविवार को अनंतनाग में ट्रक ड्राइवर की हत्या में शामिल थे। जिसके बाद सेना और पुलिस का संयुक्त सर्च अभियान चलाया गया। इसी बीच आतंकवादियों ने खुद को घिरता हुआ देख सुरक्षाबलों पर गोलीबारी शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने भी फायरिंग की जिसमें एक आतंकी मारा गया।

घाटी से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से ये चौथा मौका है जब आतंकियों ने ट्रक ड्राइवर को अपना निशाना बनाया। प्रशासनिक अधिकारियों के अनुसार, अनंतनाग (Anantnag) जिले के कानिलवान इलाके में शाम को आतंकियों ने ट्रक ड्राइवर नारायण दत्त की गोली मार दी जिसकी वजह से उसकी मौके पर ही मौत हो गई। ट्रक ड्राइवर नारायण उधमपुर जिले के कटरा का रहने वाला था। अधिकारियों के अनुसार, इस घटना की सूचना मिलते ही पुलिस तुरंत घटनास्थल पर पहुंच गई और वहां मौजूद दो अन्य ड्राइवरों की जान बचाई।

Anantnag

अनंतनाग (Anantnag) जिले में आतंकियों द्वारा ट्रक ड्राइवर को लगातार निशाना बनाये जाने के बाद पुलिस और सेना ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए पूरे इलाके को घेर लिया और हमलावरों की तलाश के लिए सर्च अभियान शुरू कर दिया है।

यूरोपीय सांसदों का कश्मीर दौरा, विपक्ष की नजर में ये संसद का अपमान

ज्ञात हो कि नारायण की हत्या के पहले ट्रक ड्राइवरों और बाहरी लोगों पर आतंकियों ने कई हमले किए गए हैं। 24 अक्तूबर को भी आतंकियों ने शोपियां जिले में दो ट्रक ड्राइवरों की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वहीं 14 अक्टूबर को भी आतंकियों ने राजस्थान नंबर के ट्रक ड्राइवर को गोली मार दिया था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। आतंकियों ने शोपियां में भी एक बागान के मालिक पर जानलेवा हमला किया था और इस घटना के दो दिन बाद ही पंजाब के एक कारोबारी की हत्या कर दी थी। इसी दिन पुलवामा जिले में भी आतंकियों ने एक मजदूर की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

यह भी पढ़ें