पुलिस की कार्रवाई से भड़के नक्सली, मुखबिरी के आरोप में दो के घर फूंके

पुलिसिया कार्रवाई से भड़के नक्सलियों (Naxals) ने नक्सल प्रभावित शंकरा और हलमद गांव में जमकर मचाया उत्पात। जितेंद्र और बुका पूर्ति पर लगाया मुखबिरी का आरोप। मुखबीर की तलाशी के दौरान नक्सलियों ने जितेंद्र और बुका के घरों में की तोड़फोड़, नहीं मिलने पर दोनों के घरों को आग के हवाले किया। 

Naxals

झारखंड के बंदगांव में नक्सलियों (Naxals) का तांडव देखने को मिला। यहां नक्सलियों ने टेबो थाने के नक्सल प्रभावित शंकरा और हलमद गांव में जमकर उत्पात मचाया। पुलिस मुखबिरी के आरोप में नक्सलियों ने दो लोगों के घरों में तोड़फोड़ की और फिर आग के हवाले कर दिया। साथ ही जाते जाते नक्सलियों ने ये धमकी भी दी कि अगर दोबारा मुखबिरी हुई तो अंजाम इससे भी बुरा होगा। सुदूरवर्ती इलाका होने के कारण पुलिस भी मौके पर नहीं पहुंच सकी।

इतिहास में आज का दिन – 4 अक्टूबर

दरअसल पिछले 10-15 दिनों से शंकरा और हलमद इलाके में नक्सली एरिया कमांडर जीवन कंडुलना का दस्ता आकर रुका हुआ था। इसकी सूचना पर सोमवार को पुलिस ने कार्रवाई की थी और कंडुलना को अपने दस्ते के साथ वहां से भागना पड़ा था। हालांकि पुलिस नक्सलियों के हथियार और विस्फोटकों की बरामदगी की थी। 

ये भी पढ़ें:- अपनी लेखनी से हिंदी साहित्य को अलंकित करने वाले महान समीक्षक रामचंद्र शुक्ल

इलाके की छानबीन के बाद जैसे ही पुलिस वापस लौटी वैसे ही कंडुलना दस्ता फिर से इलाके में आया और शंकरा गांव में जितेंद्र पूर्ति और हलमद में बुका पूर्ति की तलाश शुरू कर दी। नक्सलियों (Naxals) को शक है कि इन्हीं दोनों ने पुलिस को उनकी सूचना दी थी। हालांकि नक्सलियों की इस तलाशी अभियान में जितेंद्र और बुका पूर्ति के ना मिलने पर उनके घरों में आग लगा दी। स्थानीय लोगों के अनुसार दोनों ही पहले ही गांव छोड़ चुके हैं। इधर घटना के बारे में स्थानीय पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here