5 लाख का इनामी नक्सली गिरफ्तार, कोयलांचल में आतंक का पर्याय था सब जोनल कमांडर अनिश्चय

नक्सली (Naxali) अनिश्चय पिछले 10-12 सालों से उग्रवादी संगठन टीएसपीसी का सक्रिय सदस्य रहा है। इसका मुख्य काम कोयलांचल क्षेत्र में कार्यरत कारोबारी और ठेकेदारों को डरा-धकमा कर लेवी वसूल करना और आगजनी-धमकी देने जैसे कई मामलों में वांटेड था। चतरा जिले के अलावा लाहतेहार और पलामू जिले में भी इसके नाम की दहशत थी।

Naxali

Chatra Police arrested most wanted naxali.

झारखंड (Jharkhand) में चतरा पुलिस के हाथों एक बड़ी कामयाबी उस समय लगी जब गुप्त सूचना के आधार पर घेराबंदी करके 5 लाख के इनामी नक्सली (Naxali) को धर दबोचा। पुलिस के हत्थे चढ़े कुख्यात नक्सली टीएसपीसी (TSPC) का सब जोनल कमांडर अनिश्चय औद्योगिक नगरी टंडवा और बालूमाथ में आतंक का पर्याय था। गिरफ्तार टीएसपीसी नक्सली (Naxali) कमांडर के पास से पुलिस ने एक लाख 16 हजार रुपये नकद व 5 मोबाईल भी बरामद किया हैं। यह गिरफ्तारी गुप्त सूचना के आधार पर पिपरवार थाना क्षेत्र के बहेरा स्थित किराए के मकान से हुई। यहां ये नक्सली अपनी पत्नी से मिलने आया था। 

झारखंड: बसाना चाहता था घर, इनामी नक्सली ने गर्लफ्रेंड के साथ किया सरेंडर

टीएसपीसी (TSPC) का सब जोनल कमांडर अनिश्चय औद्योगिक नगरी टंडवा व बालूमाथ में आतंक का प्रयाय बना हुआ था। अनिश्चय की गिरफ्तारी से पूरा पुलिस महकमा खुश है और चतरा के एसपी ने इस मिशन को नक्सलियों के खिलाफ बड़ी कामयाबी बताते हुए छापेमारी टीम में शामिल सभी जवानों को सम्मानित करने की भी बात कही है।

पुलिस के लिए सिरदर्द था नक्सली (Naxali) अनिश्चय

पुलिस के अनुसार, नक्सली (Naxali) अनिश्चय पिछले 10-12 सालों से उग्रवादी संगठन टीएसपीसी का सक्रिय सदस्य रहा है। इसका मुख्य काम कोयलांचल क्षेत्र में कार्यरत कारोबारी और ठेकेदारों को डरा-धकमा कर लेवी वसूल करना और आगजनी-धमकी देने जैसे कई मामलों में वांटेड था। चतरा जिले के अलावा लाहतेहार और पलामू जिले में भी इसके नाम की दहशत थी। ये इन इलाकों से बड़ी फिरौती के साथ ही संगठन के विस्तार की भी बागडोर संभाले हुये था। झारखंड पुलिस काफी लंबे समय से इस खुंखार नक्सली (Naxali) अनिश्चय की तलाश कर रही थी। 

कई सालों के अथक प्रयास के बाद आखिरकार टीएसपीसी (TSPC) का ये सब जोनल कमांडर पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया। इस अभियान में एएसपी निगम प्रसाद, टंडवा एसडीपीओ आशुतोष कुमार सत्यम, महिला थाना प्रभारी गायत्री कुमारी और सीआरपीएफ 190 बटालियन के ऋषिकेश के साथ सैट 153 के जवान शामिल थे।

यह भी पढ़ें