Naxali

छत्तीसगढ़ का बस्तर (Bastar) जिला, जिसकी पहचान नक्सलवाद (Naxalism) से होती है, उसी बस्तर जिले के एक छोटे से पंचायत की इस पहल ने देश भर में कोरोना के संकटकाल में मिसाल कायम किया है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा (Dantewada) जिले में प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान 'लोन वराटू' (घर वापस आइए) के तहत एक-एक लाख के 4  इनामी सहित 18 नक्सलियों (Naxals)  ने आत्मसमर्पण (Surrender) किया है।

नक्सलियों ने अपनी ट्रेनिंग का वीडियो जारी किया है, जिसमें बस्तर के दरभा डिविजन का नक्सल कमांडर साफ दिख रहा है। दूसरे कई नक्सली भी इस वीडियो में दिख रहे हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धुर नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) के जंगलों में ट्रेनिंग करते नक्सलियों का एक वीडियो (Naxali Video) सामने आया है। इस वीडियो में नक्सली ट्रेनिंग लेते नजर आ रहे हैं। इतना ही नहीं, वीडियो में नक्सलियों (Naxals) के नाम के साथ उनके चेहरे भी साफ-साफ दिखाए गए हैं।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बस्तर रेंज में चलाए जा रहे नक्सली उन्मूलन अभियान के तहत पुलिस (Police) को बड़ी कामयाबी मिली है। यहां, बीजापुर जिले में एक हार्डकोर नक्सली दंपत्ति (Naxal Couple) ने सरेंडर कर दिया है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नक्सल प्रभावित सुकमा (Sukma) जिले में नक्सलियों (Naxals) ने एक बार फिर उत्पात मचाया है। नक्सलियों ने सड़क निर्माण कार्य में लगे वाहनों में आगजनी की है।

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के नारायणपुर में 23 जून को सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के कैंप (Naxal Camp) को ध्वस्त कर दिया। अबूझमाड़ के जंगल में लगाए गए इस कैंप से जवानों ने भारी मात्रा में गोला-बारूद, आईईडी सहित अन्य हथियार भी बरामद किए।

बस्तर में मानसून आने के बाद नमी और बरसात ने नक्सलियों (Naxali) की चिंता में भारी इजाफा कर दिया है इस बीच एक खबर यह भी है कि रायपुर से एक कारोबारी को नक्सलियों को वॉकी-टॉकी सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

बस्तर में मानसून आने के बाद नमी और बरसात ने नक्सलियों (Naxali) की चिंता में भारी इजाफा कर दिया है इस बीच एक खबर यह भी है कि रायपुर से एक कारोबारी को नक्सलियों को वॉकी-टॉकी सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

झारखंड (Jharkhand) पुलिस को नक्सलवाद (Naxalism) के खिलाफ एक अहम कामयाबी हाथ लगी है। झारखंड और बिहार में सक्रिय कुख्यात नक्सली (Naxali) अजय महतो को झारखंड की चतरा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

झारखंड (Jharkhand) पुलिस को नक्सलवाद (Naxalism) के खिलाफ एक अहम कामयाबी हाथ लगी है। झारखंड और बिहार में सक्रिय कुख्यात नक्सली (Naxali) अजय महतो को झारखंड की चतरा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

नक्सली (Naxali) अनिश्चय पिछले 10-12 सालों से उग्रवादी संगठन टीएसपीसी का सक्रिय सदस्य रहा है। इसका मुख्य काम कोयलांचल क्षेत्र में कार्यरत कारोबारी और ठेकेदारों को डरा-धकमा कर लेवी वसूल करना और आगजनी-धमकी देने जैसे कई मामलों में वांटेड था। चतरा जिले के अलावा लाहतेहार और पलामू जिले में भी इसके नाम की दहशत थी।

झारखंड समेत देश के सभी नक्सल प्रभावित राज्यों में अब विकास की बयार बह रही है। इसकी गति को तेज करने के लिए केंद्र सरकार ने कमर कस लिया है। इसके लिए, केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों से प्रस्ताव मांगा है।

इन दिनों पुलिस के द्वारा नक्सलियों (Naxals) के विरुद्ध चलाए जाने वाले ऑपरेशन से नक्सली बौखलाहट में हैं। नक्सली (Naxali) आए दिन सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचने की साजिश में लगे रहते हैं।

झारखंड (Jharkhand) में रामकृपाल कंस्ट्रक्शन कंपनी का नक्सलियों (Naxals) से कनेक्शन सामने आया है। एनआईए (NIA) ने कंपनी के एक कर्मचारी का नक्सलियों के साथ संबंध होने के खुलासे के बाद मामले की जांच शुरू कर दी है।

झारखंड (Jharkhand) के लोहरदगा (Lohardaga) में लंबे अरसे तक खामोश रहने के बाद नक्सलियों (Naxals) ने एक बार फिर तांडव मचाया है। नक्सलियों ने बॉक्साइट खनन के काम में लगे 11 भारी वाहनों को आग के हवाले कर दिया।

नक्सली बुधरा (Naxalite) के गांव में उसकी मांं के अलावा उसकी पत्नी, भाई और परिवार के अन्य सदस्य भी रहते हैं। परिवार वालों के अनुसार उनका बेटा बुधरा कब नक्सली बन गया इस बात की उनको भनक भी नहीं लगी। आज से करीब 10 साल पहले वह अचानक ही घर छोड़कर चला गया और कई दिनों बाद परिवारवालों को उसके नक्सली बनने की सूचना लगी।

यह भी पढ़ें