एयर स्ट्राइक के दौरान आतंकी कैंप्स में एक्टिव थे 300 मोबाइल फोन

सर्विलांस के मुताबिक आतंकी कैम्प में 300 मोबाइल फोन के एक्टिव होने की बात सामने आई थी, जिससे सीधे तौर पर पता चलता है कि वहां कितने आतंकी मौजूद थे।

air strike, iaf air strike, balakot, pakistan, air chief b s dhanoa

प्रेस-कॉन्फ्रेंस के दौरान वायु सेना चीफ बी. एस. धनोआ

भारतीय वायुसेना के पाक स्थित आतंकी कैंप्स पर एयर स्ट्राइक (Air Strike) के बाद मारे गए आतंकियों की संख्या को लेकर उठ रहे सवालों के बीच 4 मार्च को वायु सेना चीफ बी. एस. धनोआ ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस किया। इस प्रेस-कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने कहा कि शवों को गिनना हमारा काम नहीं। धनोआ ने ये कहा कि हम टारगेट हिट करते हैं, शवों को नहीं गिनते। हम सिर्फ यह देखते हैं कि टारगेट हिट किया है या नहीं।

वहीं भारतीय खुफिया एजेंसियों की तकनीकी सर्विलांस नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (एनटीआरओ) ने भी एक बड़ा खुलासा किया है। सर्विलांस के मुताबिक आतंकी कैम्प में 300 मोबाइल फोन के एक्टिव होने की बात सामने आई थी, जिससे सीधे तौर पर पता चलता है कि वहां कितने आतंकी मौजूद थे।

जैसे ही वायु सेना की आतंकी शिविर में हमले की अनुमति मिली, उसके बाद नेशनल टेक्निकल रिसर्च ऑर्गनाइजेशन ने सर्विलांस शुरू कर दिया था। जिसके ज़रिए ये बात सामने आई। सर्विलांस के दौरान यह जानकारी सामने आई कि कैम्प में करीब 300 मोबाइल फोन ऐक्टिव नजर आए थे। जिसके कुछ दिन बाद एयर स्ट्राइक (Air Strike) हुआ था। बालाकोट के उस आतंकी कैम्प को भारतीय वायुसेना ने एयरस्ट्राइक करके उड़ा दिया था।

यह भी पढ़ें