कांकेर: नक्सलियों के नापाक मंसूबों पर जवानों ने फेरा पानी, 2 किलो का IED बरामद

सर्चिंग के दौरान जवानों ने दो किलो का एक आईईडी (IED) बरामद किया। बरामद IED को बीडीएस की टीम ने मौके पर ही निष्क्रिय कर दिया।

IED

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित कांकेर के कोयलीबेड़ा क्षेत्र में नक्सलियों के नापाक मंसूबों को सुरक्षाबल के जवानों ने नाकाम कर दिया।

छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित कांकेर के कोयलीबेड़ा क्षेत्र में नक्सलियों के नापाक मंसूबों को सुरक्षाबल के जवानों ने नाकाम कर दिया। सर्चिंग के दौरान जवानों ने दो किलो का एक आईईडी (IED) बरामद किया। बरामद IED को बीडीएस की टीम ने मौके पर ही निष्क्रिय कर दिया।

IED
फाइल फोटो।

जानकारी के अनुसार, बीएसएफ (BSF) और जिला पुलिस की संयुक्त टीम एंटी नक्सल अभियान के तहत सर्चिंग ऑपेशन के लिए रवाना हुई थी। इसी दौरान सुरक्षाबल के जवानों को मरकानारा और धुत्ता गांव के बीच आईईडी (IED) प्लांट होने की सूचना मिली। इलाके में छानबीन करने पर जवानों को वॉयर दिखाई दिया। जिसके बाद इलाके में गहन तलाशी की गई।

इस दौरान वहां से दो किलो का IED बरामद हुआ, जिसे बीडीएस टीम की मदद से तत्काल निष्क्रिय कर दिया गया। बताया जा रहा है इस बार नक्सलियों ने जिस तरह के बिजली के वायर का इस्तेमाल किया है, वह हैरान करने वाला है। नक्सली अमूमन लाल और काले रंग के बिजली वायर का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन नक्सलियों ने इस बार सफेद और हरे रंग के बिजली वॉयर का इस्तेमाल किया है।

नक्सलियों ने यह IED बम जंगल और सड़क के बीच में प्लांट किया था। जिस तरह का बम नक्सलियों ने लगाया था वह काफी घातक था। नक्सलियों ने इस बम में पटाखों में इस्तेमाल किए जाने वाले बारूद, छड़ के टुकड़े, किल आदि का इस्तेमाल किया था। इसके विस्फोट से बड़ा नुकसान हो सकता था। जवानों की मुस्तैदी से एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया।

पढ़ें: 12 जवानों की हत्या का मामला है दर्ज, पुलिस पर हमला कर हथियार लूटने वाले नक्सली ने किया सरेंडर

यह भी पढ़ें