भारत-चीन विवाद पर जनरल रावत की दो टूक, ‘चीन ने सोचा कि वह थोड़ी ताकत दिखाकर अपनी मनमानी कर लेगा’

सीडीएस जनरल रावत (General Bipin Rawat) ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय यह कहने के लिए भारत का सहयोग करने आया कि ‘हां एक अंतर्राष्ट्रीय नियम आधारित व्यवस्था है जिसका हर देश को पालन करना चाहिए।

General Bipin Rawat

भारत के चीफ डिफेंस स्टॉफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध का जिक्र करते हुए बताया कि भारत उत्तरी सीमाओं पर यथास्थिति को बदलने के प्रयासों को रोकने के लिए मजबूती से खड़ा रहा और साबित कर दिया कि वह किसी भी दबाव के आगे नहीं झुकेगा।

सुरक्षाबलों पर फिर टूटा नक्सली कहर: 23 दिन में तीसरा नक्सली हमला, इस थाने से महज कुछ दूरी पर दो पुलिसकर्मियों का गला रेता

सीडीएस जनरल रावत (General Bipin Rawat) ने दिल्ली में ‘रायसीना संवाद’ में अपने अभिभाषण में बताया कि चीन ने सोचा कि वह थोड़ी सी ताकत दिखाकर अपनी मांगें मनवाने के लिए राष्ट्रों को विवश करने में सफल रहेगा क्योंकि उसके पास एडवांस टेक्नोलॉजी के कारण श्रेष्ठ सशस्त्र बल हैं।

सीडीएस जनरल रावत (General Bipin Rawat) के अनुसार, ‘लेकिन मुझे लगता है कि भारत उत्तरी सीमाओं पर मजबूती से खड़ा रहा और साबित कर दिया कि हम झुकेंगे नहीं।’ सीडीएस ने आगे बताया कि क्षेत्र में यथास्थिति को बदलने के प्रयासों को रोकने में मजबूती से खड़ा होकर भारत अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का समर्थन पाने में भी सफल रहा।

सीडीएस जनरल रावत (General Bipin Rawat) के मुताबिक‚ चीन ने ये सुनिश्चित करने की कोशिश की कि वे शक्ति का इस्तेमाल किए बिना खतरनाक तकनीकी अस्त्र का इस्तेमाल कर यथास्थिति को बदल देंगे। चीन ने सोचा कि भारत‚ एक राष्ट्र के रूप में‚ उनके द्वारा बनाए जा रहे दबाव के आगे झुक जाएगा क्योंकि उनके पास तकनीकी सामर्थ्य नहीं है।

सीडीएस जनरल रावत (General Bipin Rawat) ने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय यह कहने के लिए भारत का सहयोग करने आया कि ‘हां एक अंतर्राष्ट्रीय नियम आधारित व्यवस्था है जिसका हर देश को पालन करना चाहिए। यह वह चीज है जो हम हासिल करने में सफल रहे हैं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें