बिहार: पहाड़ी पर नक्सलियों को पकड़ने पहुंची छापेमारी टीम रह गई दंग, हो रहा था ये काम

पुलिस ने उन इलाकों में छापेमारी की है, जहां पहले नक्सली रहा करते थे, लेकिन सामने ये आया है कि यहां नक्सली नहीं बल्कि शराब तस्कर मौजूद हैं।

Naxalites

रोहतास पुलिस द्वारा चुटिया थाना क्षेत्र के कैमूर पहाड़ी जंगल इलाके में मंगलवार को संयुक्‍त छापेमारी अभियान चलाया गया था। इस दौरान पुलिस ने यहां से भारी मात्रा में देसी शराब और बंदूक के साथ 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

सासाराम: बिहार में नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ अभियान जारी है। इस बीच रोहतास के डेहरी ऑन सोन से बड़ी खबर सामने आई है। यहां की पुलिस ने उन इलाकों में छापेमारी की है, जहां पहले नक्सली (Naxalites) रहा करते थे, लेकिन सामने ये आया है कि यहां नक्सली नहीं बल्कि शराब तस्कर मौजूद हैं। पहाड़ियों पर रहने वाले ये शराब तस्कर हथियारों से लैस हैं।

रोहतास पुलिस द्वारा चुटिया थाना क्षेत्र के कैमूर पहाड़ी जंगल इलाके में मंगलवार को संयुक्‍त छापेमारी अभियान चलाया गया था। इस दौरान पुलिस ने यहां से भारी मात्रा में देसी शराब और बंदूक के साथ 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तार लोगों की पहचान अजीत पासवान, प्रमोद यादव और विजय उरांव के रूप में हुई है। अजीत और प्रमोद के पास से 50 लीटर और विजय के पास से देसी बंदूक और 15 लीटर शराब जब्‍त की गई है। ये जानकारी चुटिया थानाध्‍यक्ष श्रीराम चौबे ने दी है।

भारतीय नौसेना के सीनियर अधिकारी श्रीकांत का निधन, कोरोना के थे लक्षण

बता दें कि छापेमारी दल तो नक्सलियों की आशंका के तहत पहाड़ी पर गया था लेकिन उसे वहां शराब तस्कर मिले। चुटिया के जंगलों में शराब की 3 भट्टियां मिलीं। इस दौरान 100 किलो जावा महुआ नष्ट किया गया।

शराब तस्करों ने बताया कि जितना पैसा तस्करी से कमाते हैं, उतना पैसा तो लेवी से भी नहीं मिलता।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें